निबन्ध 9

प्रश्न 1.
निबन्ध किसे कहते हैं?
उत्तर :
निबन्ध उस गद्य विधा को कहते हैं, जो कलात्मक नियमों के बन्धन से मुक्त हो। इसमें लेखक स्वच्छन्दतापूर्वक अपने विचारों तथा भावों को प्रकट करता है।

प्रश्न 2.
हिन्दी निबन्ध-लेखन की विभिन्न शैलियों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर :
हिन्दी निबन्ध-लेखन में वर्णनात्मक, विवरणात्मक, विचारात्मक तथा भावात्मक शैलियों को अपनाया गया है।

प्रश्न 3.
हिन्दी के प्रमुख ललित निबन्धकारों के नाम बताइए।
उत्तर :
हिन्दी के प्रमुख ललित निबन्धकार हैं-आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी, शिवप्रसाद सिंह, रामवृक्ष बेनीपुरी, कुबेरनाथ राय, डॉ० विद्यानिवास मिश्र, डॉ० वासुदेवशरण अग्रवाल, जगदीशचन्द्र माथुर, डॉ० धर्मवीर भारती, पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी।

प्रश्न 4.
प्रतापनारायण मिश्र द्वारा रचित दो प्रसिद्ध निबन्धों और नाटकों के नाम लिखिए।
उत्तर :
निबन्ध-

  • रिश्वत
  • समझदार की मौत।

नाटक-

  • हठी हम्मीर
  • कलि कौतुक।

प्रश्न 5.
विचारात्मक तथा भावात्मक निबन्ध-लेखकों में से एक-एक निबन्ध-लेखक का नाम लिखिए।
उत्तर :

  • आचार्य रामचन्द्र शुक्ल-विचारात्मक निबन्ध लेखक
  • वियोगी हरि-भावात्मक निबन्ध लेखक

प्रश्न 6.
हिन्दी साहित्य के दो विचारात्मक निबन्धकारों के नाम लिखिए।
उत्तर :

  • डॉ० श्यामसुन्दर दास
  • आचार्य रामचन्द्र शुक्ल

प्रश्न 7.
निबन्ध के विकास में योगदान करनेवाले किन्हीं दो निबन्धकारों के नाम बताइए।
उत्तर :

  • आचार्य महावीरप्रसाद द्विवेदी
  • आचार्य रामचन्द्र शुक्ल।

प्रश्न 8.
‘नींव की ईंट’ बेनीपुरी जी की किस प्रकार की निबन्ध-रचना है?
उत्तर :
यह भावात्मक निबन्ध-रचना है।।

प्रश्न 9.
‘नींव की ईंट’ निबन्ध में बेनीपुरी जी द्वारा प्रयुक्त दो शैलियों के नाम लिखिए।
उत्तर :
‘नींव की ईंट’ निबन्ध में प्रतीकात्मक तथा भावात्मक दो प्रमुख शैलियों का प्रयोग हुआ है।

प्रश्न 10.
विचारात्मक निबन्ध लिखने के अतिरिक्त काका साहब ने हिन्दी साहित्य की किस विधा में कलम चलायी है?
उत्तर :
यात्रा-साहित्य में

प्रश्न 11.
विनयमोहन शर्मा के निबन्धों की मुख्य विशेषताएँ संक्षेप में लिखिए।
उत्तर :
विनयमोहन शर्मा के निबन्ध आत्मव्यंजक तथा दृश्यों को अंकित करने की क्षमता से युक्त हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *