Up Class 10 हिंदी : हिन्दी गद्य के विकास का संक्षिप्त परिचय

वस्तुनिष्ठ प्रश्न 9 वस्तुनिष्ठ प्रश्न प्रश्न निम्नलिखित में से कोई एक कथन सत्य है, पहचानकर लिखिए- [सकत-प्रश्न-पत्र में किसी एक वाक्य की सत्यता से सम्बन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं। विद्यार्थियों के उचित बोध के लिए हम अन्य प्रश्नों के उत्तर भी दे रहे हैं। दो बार पूछे गये वाक्य हटा दिये गये हैं।] 1. (i) …

वस्तुनिष्ठ प्रश्न 10 Read More »

लघु उत्तरीय प्रश्न 9 लघु उत्तरीय प्रश्न प्रश्न 1 हिन्दी गद्य के प्राचीन रूप पर प्रकाश डालिए। उत्तर विद्वानों के अनुसार हिन्दी गद्य के प्राचीन प्रयोग ब्रजभाषा एवं राजस्थानी में मिलते हैं। इसी से हिन्दी गद्य का विकास हुआ है। राजस्थानी गद्य का आविर्भाव 13वीं शताब्दी से तथा ब्रजभाषा गद्य का आविर्भाव 16वीं शताब्दी से …

लघु उत्तरीय प्रश्न 10 Read More »

प्रमुख लेखक एवं उनकी रचनाएँ प्रमुख लेखक एवं उनकी रचनाएँ S.No.     लेखक   –    रचना   –    विधा 1. गोकुलनाथ – चौरासी वैष्णवन की वार्ता – वार्ता साहित्य 2. गोकुलनाथ – दो सौ बावन वैष्णवन की वार्ता – वार्ता साहित्य 3. बिट्ठलनाथ – शृंगार रस मण्डन (2015) – ब्रजभाषा गद्य 4. बैकुण्ठमणि शुक्ल – …

प्रमुख लेखक एवं उनकी रचनाएँ Read More »

पाठ्य-पुस्तक में संकलित लेखक और उनकी रचनाएँ पाठ्य-पुस्तक में संकलित लेखक और उनकी रचनाएँ S.No.    लेखक     –     रचना    –    विधा 1. रामचन्द्र शुक्ल – चिन्तामणि [2010, 12, 14;16] – निबन्ध 2.रामचन्द्र शुक्ल – रस-मीमांसा [2011, 13, 14, 16, 17] – आलोचना 3. रामचन्द्र शुक्ल – हिन्दी-साहित्य  को इतिहास [2010, 12] …

पाठ्य-पुस्तक में संकलित लेखक और उनकी रचनाएँ Read More »

गद्य-साहित्य के विकास पर आधारित हिन्दी गद्य के विकास का संक्षिप्त परिचय विशेष-पाठ्यक्रम के नवीनतम प्रारूप के अनुसार हिन्दी गद्य के विकास का संक्षिप्त परिचय’ के अन्तर्गत केवल शुक्ल और शुक्लोत्तर युग (छायावादोत्तर युग) ही निर्धारित हैं, किन्तु अध्ययन की दृष्टि से यहाँ सभी युगों के विकास से सम्बन्धित प्रश्नों को संक्षेप में दिया जा …

गद्य-साहित्य के विकास पर आधारित Read More »

गद्य की विभिन्न विधाओं पर आधारित गद्य की विभिन्न विधाओं पर आधारित निबन्ध प्रश्न 1 निबन्ध किसे कहते हैं ? उत्तर निबन्ध उस गद्य-विधा को कहते हैं, जिसमें किसी विषय पर सभी दृष्टियों से प्रस्तुत किये गये विचारों का मौलिक और स्वतन्त्र रूप में विवेचन; विचारपूर्ण, विवरणात्मक और विस्तृत रूप में किया गया हो। इसमें …

गद्य की विभिन्न विधाओं पर आधारित Read More »