Chapter 11 The Light of Asia

Introduction : The Light of Asia’ is an epic on the life of Lord Buddha. It is one of the best works of Sir Edwin Arnold. Through this poem the poet has described the life and teachings of Lord Buddha. He has described in it the birth of Buddha, his early experiences of life, his renunciation and his teachings.

The book had been divided into eight cantos. In the first seven cantos the birth, life and the early experiences of Buddha have been described. In the eighth and last canto, we find the message of Lord Buddha. The poem is long and narrative. Its beautiful diction and figures of speech add to the charm of the poem. The style is very interesting and charming.

(“The Light of Asia’ भगवान् बुद्ध के जीवन पर एक महाकाव्य है। यह Sir Edwin Arnold की सर्वोत्तम रचनाओं में से एक है। इस कविता के माध्यम से कवि ने भगवान् बुद्ध के जीवन और उनकी शिक्षाओं को वर्णन किया है। उन्होंने इसमें बुद्ध का जन्म, उनके जीवन के प्रारम्भ के अनुभव, उनका संन्यास तथा उनकी शिक्षाओं का वर्णन किया है।

पुस्तक को आठ काण्डों में बाँटा गया है। पहले सात काण्डों में बुद्ध के जन्म, उनके जीवन तथा उनके आरम्भ के अनुभवों का वर्णन किया है। आठवें तथा अन्तिम काण्ड में हमें भगवान् बुद्ध का सन्देश मिलता है। कविता लम्बी तथा वर्णनात्मक है। इसका ढंग तथा अलंकारों का प्रयोग इसकी सुन्दरता को और अधिक बढ़ाता है। इसकी भाषा बहुत रोचक तथा सुन्दर है।)

POEM at a Glance

Childhood of the Prince : The Prince, Siddhartha lived in the palace in an atmosphere of peace and love. All the pleasures and luxuries of life were provided to him. He had no clear knowledge of pains, diseases, old age and death. Sometimes he awoke from his sleep and cried, “I shall come….”. At this, his wife became sad and worried. Then he ordered to let the Veena be sounded to please her.

Message of Veena : One day Veena sounded. The devas were playing on it. They were saying to him, “There are pains in the whole world. Nowhere there is joy. You have taken birth to save the man and to relieve him of his miseries. So you should see their pains and should try to bring deliverance for them.” After sometime Chitra, a maid servant, was singing an ancient tale of love in a wonderful land. Hearing it the Prince was reminded of the message of Veena.

First Visit of the Prince to the City: The Prince desired to go to the city and ordered his “ charioteer, Channa to make the chariot ready. When the king knew it, he ordered that the city should be decorated much. No painful or ugly sight should come on the way of the Prince. So the old men, sick people and handicapped, all were restricted to come out.

At various places a warm welcome was given to the Prince. The city was so much decorated that it looked like a city of magic. When the Prince passed through a gate, he saw a very weak and old man begging. The people were pushing him out of the road. But the Prince stopped them and asked Channa about him. Channa told him, “He is an eighty years old man. Long age has made him so.” The Prince asked, “Does the old age come to everybody ?” Channa replied, “It happens with all.” The Prince was very sad. He at once ordered to go back home. He had seen more sufferings than he hoped. So the Prince came back home. He was so sad that he remained restless the whole night. He remained thinking how love should be defended from time.

The Dream of Shuddhodana : That night the king saw a fearful dream in which he saw seven visions. By the first vision the king saw a beautiful flag which was torn and thrown down into the dust by a strong wind. By the second vision, he saw ten huge elephants. The earth moved when they walked. The Prince was sitting on the leading elephant. By the third vision, he saw Prince sitting in a chariot which was drawn by four fearful horses. By the fourth vision, he saw a moving wheel made of jewels. By the fifth vision, he saw the Prince beating a drum. By the sixth vision, he saw a tower reaching the clouds. The Prince was standing on it and was scattering jewels. The people were collecting them. By the last vision, he saw six men weeping and lamenting.

The Meaning of the Dream : With a great difficulty an old man came and told him the meaning of the seven visions seen by the king. The first vision meant that new faiths would take place of the old ones. Ten elephants were the ten gifts of wisdom by which the Prince would shake the world. Four horses were the four virtues, with the help of which the Prince would get knowledge. The wheel was the wheel of perfect law by which the Prince would save the humanity from sorrow. The stormy sound of the drum meant that the Prince would teach his principles in a loud voice. The tower meant that his principles would grow like the tower. The sixth vision meant that the Prince would scatter the treasure of the perfect law and people would accept them. Lastly there were six men whom the Prince would give knowledge. Then the old man told the king that it all would happen in seven days. Then he went away.

The Second Visit of the Prince to the City : The Prince wanted to see the life as it was. He wanted that the people should not recognise him when he would go to the city. The king also thought that the condition might improve if he allowed him to go to the city again. So, he allowed him. The Prince entered the city as a merchant and Channa as his accountant. So nobody could recognise them.

In the city the Prince saw a sick man moaning and crying for help. He put his head on his knees and solaced him. Then he asked Channa about him. Channa said, “This man has been suffering from any fearful disease. The disease has deserted him of his strength. In the last he will die. Then this disease will attack any other man. So please leave him lest the disease should attack you.” Channa further told the Prince that the disease comes all of a sudden. All pains end.into death. Then the Prince said that this life is full of fears. There is no hope of joy and health.

After this the Prince saw some people carrying a dead body. They were saying, Ram, Ram, O Ram….” They put it on a heap of wood and burnt it to ashes. When the Prince asked Channa about it, he told that all must die one day. The man enjoys his life and dies. He again takes birth and again dies. This cycle of life goes on.

Siddhartha was very sad. He saw towards the sky and thought for a while. Then he said, “The world is caught in the net of woes and death. The pleasures of life are false. They end into sorrow. In our life youth is delightful, old age is painful and then the end is death.” Then he said to Channa, “I have seen more than enough. Now take me home.” The king also was very much worried. When the Prince had reached the palace, the king arranged three times guards at the gate. He banned everybody to see the Prince for seven days because the old man had told that all would happen in seven days.

कविता पर एक दृष्टि

राजकुमार का बचपन- राजकुमार सिद्धार्थ महल में शान्ति, प्रेम और सुख के वातावरण में रहते थे। उन्हें जीवन के समस्त सुख एवं ऐश्वर्य उपलब्ध थे। उन्हें मनुष्य के कष्टों, रोग, बुढ़ापे और मृत्यु का स्पष्ट ज्ञान नहीं था। कभी-कभी वे सोते से चौंक जाते थे और कहते थे, “मैं आऊँगा, मैं आऊँगा।” इस पर उनकी पत्नी यशोधरा चिन्तित एवं दुःखी हो जाती थी। तब वे उसे प्रसन्न करने के लिए वीणा बजाने की आज्ञा देते थे।

वीणा का सन्देश- एक दिन खिड़की पर रखी हुई वीणा बजी। वीणा को देवगण बजा रहे थे। वे उससे कह रहे थे कि संसार में चारों ओर कष्ट ही है। कहीं सुख नहीं है। तुम्हारा जन्मं मनुष्य की रक्षा के लिए तथा उसको उसके दुःखों से मुक्त करने के लिए हुआ है। तुम मनुष्यों के कष्टों को देखो और उन्हें मोक्ष दिलाने का प्रयत्न करो। कुछ समय बाद एक दासी चित्रा एक अद्भुत देश की प्रेम की कहानी गा रही थी। उसे सुनकर राजकुमार को पुन: वीणों के सन्देश का स्मरण हो गया।

राजकुमार का नगर में पहला भ्रमण- राजकुमार ने नगर में जाने की इच्छा प्रकट की। अपने साथी चन्ना को रथ तैयार करने को कहा। जब राजा को इस विषय में पता लगा तब उसने आदेश दिया कि नगर को खूब सजाया जाए। राजकुमार के सामने कोई भी अप्रिय घटना या कष्टदायक दृश्य न आए। अत: नगर के सभी रोगी, वृद्ध और अपाहिज लोगों पर बाहर आने की पाबन्दी लगा दी गई।

स्थान-स्थान पर राजकुमार का खूब स्वागत हुआ। नगर इतना सजा हुआ था कि जादू का सा नगर लगता था। जब राजकुमार एक द्वार से निकले तब उन्हें एक अत्यन्त दुर्बल एवं बूढ़ा मनुष्य भिक्षा माँगता हुआ दिखाई दिया। लोग उसे सड़क से धकेल रहे थे, किन्तु राजकुमार ने उन्हें रोका और चन्ना से उसके विषय में पूछा। चन्ना ने बताया कि वह अस्सी वर्ष का बूढ़ा है और लम्बी आयु ने उसे ऐसा बना दिया है। राजकुमार ने पूछा कि क्या ऐसा बुढ़ापा सभी को आता है ? चन्ना ने उत्तर दिया कि सभी के साथ ऐसा होता है। राजकुमार अत्यन्त दु:खी हुए। उन्होंने तुरन्त घर लौटने की आज्ञा दी। उन्होंने आशा से अधिक दुःख देख लिया था, अत: राजकुमार घर लौट आए। वे इतने उदास थे कि पूरी रात बेचैन रहे। वे सोचते रहे कि प्रेम की समय से रक्षा कैसे की जाए।

राजा शुद्धोदन का स्वप्न- उसी रात राजा ने एक भयानक स्वप्न देखा जिसमें उसने सात दृश्य देखे। सबसे पहले उसने एक बड़ा सुन्दर झण्डा देखा जिसे हवा ने फाड़कर मिट्टी में मिला दिया था। दूसरे दृश्य में उसने दस बड़े हाथी देखे जिनके चलने से पृथ्वी हिलती थी। सबसे आगे वाले हाथी पर राजकुमार बैठा हुआ था। तीसरे दृश्य में राजा ने राजकुमार को एक रथ में बैठा हुआ देखा, जिसे चार भयानक घोड़े खींच रहे थे। चौथे दृश्य में उसने एक सोने और हीरों का बना हुआ घूमता हुआ चक्र देखा। पाँचवें दृश्य में उसने नगर के बीच राजकुमार को जोर-जोर से एक ढोल पीटते हुए देखा। छठे दृश्य में उसने राजकुमार को एक बादलों को छूती हुई मीनार पर खड़े देखा और वे चारों दिशाओं में हीरे-जवाहरात बिखेर रहे थे और लोग उन्हें इकट्ठा कर रहे थे। अन्त में उन्होंने छः व्यक्तियों को रोते हुए और विलाप करते हुए देखा।

स्वप्न का अर्थ- बड़ी कठिनाई से राजा के पास एक बूढ़ा व्यक्ति आया जिसने उसके स्वप्न के सात दृश्यों का अर्थ बताया। पहले दृश्य का अर्थ था कि पुराने विश्वासों के स्थान पर नये विश्वास आ जाएँगे। दस हाथी बुद्धिमानी के दस उपहार थे जिनसे राजकुमार संसार को हिला देंगे। चार घोड़े चार सद्गुण थे जिनसे राजकुमार को ज्ञान प्राप्त होगा। चक्र वह सम्पूर्ण नियम था जिससे राजकुमार मानव जाति को दु:खों से बचाएँगे। ढोल की आवाज यह प्रदर्शित करती थी कि किस प्रकार राजकुमार ऊँची आवाज में अपने सिद्धान्तों का उपदेश देंगे। ऊँची मीनार का अर्थ था कि उसके उपदेश आकाश तक फैलेंगे। छठे दृश्य का अर्थ था कि राजकुमार रनों के समान अपने बहुमूल्य उपदेश देंगे और लोग उन्हें स्वीकार करेंगे। छ: व्यक्ति वे व्यक्ति थे जिन्हें राजकुमार सर्वप्रथम ज्ञान एवं उपदेश देंगे। तपस्वी ने यह भी बताया कि यह सब कुछ सात दिन में हो जाएगा। इसके पश्चात् वह तपस्वी चला गया।

राजकुमार का नगर में दूसरा भ्रमण- राजकुमार चाहते थे कि वे लोगों के जीवन को वास्तविक स्थिति में देखें। वह चाहते थे कि जब वे नगर को भ्रमण करें तो लोग उन्हें पहचाने नहीं। राजा भी सोचते थे कि यदि उन्हें नगर को पुनः जाने की स्वीकृति दे दी जाए तब शायद इससे स्थिति सुधर जाए। अतः उन्होंने राजकुमार को नगर में जाने की स्वीकृति दे दी। राजकुमार ने नगर में एक व्यापारी के रूप में प्रवेश किया और चन्ना उनका मुनीम बना। अतः कोई भी व्यक्ति उन्हें पहचान नहीं सका।

नगर में राजकुमार ने एक बीमार आदमी को सहायता के लिए कराहते हुए देखा। उन्होंने उसका सिर अपने घुटने पर रखा और सान्त्वना दी। फिर उन्होंने उसके विषय में चन्ना से पूछा। चन्ना ने कहा, “यह आदमी किसी भयानक रोग से पीड़ित है। रोग ने उसकी शक्ति को नष्ट कर दिया है। अन्त में यह व्यक्ति मर जाएगा। तब यह रोग इसे छोड़कर किसी अन्य व्यक्ति पर आक्रमण करेगा। अतः आप इसे छोड़ दें कहीं यह रोग आप पर आक्रमण न कर दे।’ चन्ना ने राजकुमार को आगे बताया कि रोग अकस्मात् आता है। सभी कष्टों का अन्त मृत्यु है। तब राजकुमार ने कहा कि जीवन भय से भरा हुआ है। सुख तथा स्वास्थ्य का कोई भरोसा नहीं।

इसके पश्चात् राजकुमार ने कुछ लोगों को एक शव को ले जाते हुए देखा। वे कह रहे थे, “राम नाम सत्य है…….” उन्होंने उसे नदी के किनारे चिता पर रखकर फेंक दिया। शीघ्र ही वह जलकर राख हो गया। इस विषय में राजकुमार के पूछने पर चन्ना ने बताया कि एक दिन सभी को मरना है। मनुष्य जीवन के सुख भोगता है और मर जाता है। वह पुनः जन्म लेता है और पुनः मर जाता है। यही चक्र चलता रहता है।

सिद्धार्थ बहुत दु:खी हुए, उन्होंने आकाश की ओर देखा और कुछ सोचा, फिर उन्होंने कहा, “यह संसार कष्टों और मृत्यु के जाल में फंसा है। जीवन के सुख मिथ्या हैं। उनका अन्त कष्ट है। जीवन में यौवन आनन्दमय होता है, फिर बुढ़ापा कष्टमय और अन्त मृत्यु है।” उन्होंने चन्ना से कहा, “मैंने बहुत कुछ देख लिया है। अब मुझे घर ले चलो।” राजा भी बहुत चिन्तित थे। राजकुमार के महल में पहुँचने के बाद राजा ने तीन गुना पहरा लगा दिया और किसी के भी राजकुमार से मिलने पर सात दिन की पाबन्दी लगा दी, क्योंकि साधु ने बताया था कि सात दिन में सभी कुछ हो जाएगा।

Long Answer Type Questions

Answer One of the following questions in about 150 words :

Question 1.
What disturbed the calm of Siddhartha’s mind even among the pleasures and luxuries of the palace ? [M. Imp.]
(राजमहल के आनन्दों एवं ऐश्वर्यों के बीच भी कौन-सी बात सिद्धार्थ के मन की शान्ति को बाधा पहुँचाती थी ?)
Or
Why did Prince often become sad even in the midst of all pleasures ?
(सभी प्रकार के सुखों के बीच भी राजकुमार बहुधा दु:खी क्यों हो जाते थे ?)
Or
Why was the Prince Siddhartha unhappy even among the pleasures and luxuries of the
palace ?
(महलों के सुख और ऐश्वर्यों के बीच सिद्धार्थ क्यों खुश नहीं थे ?)
Or
Why was Siddhartha unhappy even among the pleasures and luxuries of the world?
(संसार के सुख और ऐश्वर्यों के बीच सिद्धार्थ क्यों खुश नहीं थे ?)
Answer:
1. Siddhartha’s life in the palace with his wife: Prince Siddhartha was the son of king Suddhodana, the ruler of a mighty empire. The Prince passed a life of kingly pleasures and luxuries. He was living in an atmosphere of perfect bliss. He knew nothing about pains, sufferings, diseases, old age, death, etc. because he never went out of the palace. His wife Yashodhara was very beautiful and gentle. She always shared his pains and sufferings.

2. Message of Gods: But Siddhartha was a very thoughtful man. So he had no mental peace, He often used to cry, “My world! Oh world! I hear! I hear! I knew ! I come !” Once he heard a message of gods on Veena. The gods told him, “Leave your personal love and attachments. Life is but an empty show. It is full of miseries. This worldly love is for the ordinary people. You have some higher spiritual mission to fulfil in life. You have to save the entire humanity from the miseries of life. You have to be the saviour of mankind.”.

Conclusion : So Prince Siddhartha was always restless. Whenever he thought of this message, he desired to see the miseries of the world with his own eyes. He wanted to see the sufferings of mankind. Thus the message of the wind about the miseries of the world disturbed the calm of Siddhartha’s mind. The kingly pleasures were of no use for him.

[ 1. महल में अपनी पत्नी के साथ सिद्धार्थ का जीवन- राजकुमार सिद्धार्थ एक शक्तिशाली राज्य के शासक राजा शुद्धोदन के पुत्र थे। राजकुमार ने राजसी आनन्दों एवं ऐश्वर्यों का जीवन व्यतीत किया। वह पूर्ण आनन्द के वातावरण में रह रहे थे। वह दु:खों, कष्टों, बीमारी, बुढ़ापा, मृत्यु आदि के विषय में कुछ भी नहीं जानते थे, क्योंकि वह मेहल के बाहर कभी नहीं गए थे। उनकी पत्नी यशोधरा भी बहुत सुन्दर और सुशील थी। वह सदा उनके दुःखों तथा कष्टों में हिस्सा बंटाती थी।

2. देवताओं को सन्देश- किन्तु सिद्धार्थ अत्यन्त विचारशील व्यक्ति थे। इसलिए उन्हें मानसिक शान्ति न थी। वह बहुधा चिल्लाया करते थे, “मेरा संसार ! अरे संसार ! मैं सुन रहा हूँ ! मैं सुन रहा हूँ! मैं जानता हूँ ! मैं आया !” एक बार उन्होंने वीणा पर देवताओं का एक सन्देश सुना। देवताओं ने उन्हें बताया, “अपने व्यक्तिगत प्रेम और आसक्ति को त्याग दो। जीवन केवल एक दिखावा है। यह दु:खों से भरा हुआ है। यह भौतिक प्रेम साधारण व्यक्तियों के लिए है। तुम्हें अपने जीवन में एक महान् आध्यात्मिक कार्य को पूरा करना है। तुम्हें सम्पूर्ण मानव जाति को जीवन के दुःखों से बचाना है। तुम्हें सम्पूर्ण मानव जाति का रक्षक बनना है।”

3. निष्कर्ष- इसलिए राजकुमार सिद्धार्थ सदा बेचैन रहते थे। जब भी वे इस सन्देश के विषय में सोचते थे, तभी वे संसार के दुःखों को अपनी आँखों से देखने की इच्छा करते थे। वे मानव जाति के कष्टों को देखना चाहते थे। इस प्रकार संसार के दुःखों के विषय में हवा के सन्देश ने सिद्धार्थ के मस्तिष्क की शान्ति को भंग . कर दिया। राजसी सुख उनके लिए व्यर्थ थे।]

Question 2.
Write in short the message which the music of the wind sang in the Prince’s ears.
(वायु के संगीत ने जो सन्देश राजकुमार के कानों में गाया उसे संक्षेप में लिखिए।)
Or
What does the Prince say about life and the world in the poem ‘The Light of Asia’?
(“The Light of Asia’ नामक कविता में राजकुमार जीवन और संसार के विषय में क्या कहते हैं?)
Or
What message did the wind-music convey to the Prince Siddhartha ?
(वायु के संगीत ने राजकुमार सिद्धार्थ को क्या सन्देश दिया?)
Answer:
1. Introduction : The Prince Siddhartha was passing a life of kingly pleasures and luxuries. He was living in an atmosphere of perfect bliss. One day the veena was placed on the window still. The wind touched its strings and it produced random wild music. The people around it heard only this music but could not understand it. It was the message of Devas (Gods) to the Prince’s ear. So only Siddhartha could understand it.

2. About Devos, this world and life: The gods said, “O Prince, we wander on the whole earth. We see pains and sufferings everywhere. Nobody is happy. Life is a struggle. It is like the wind. Man does not know from where he has come. Why has he come here and where will he go ?”

3. About worldly love : They again said, “Leave all your personal love and attachment. You have a spiritual mission to fulfil in your life. This worldly love is not for you but for the ordinary people. Love is not lasting and life is only an empty show. You are surrounded with pleasures. But these are all false and they end into sufferings.”

4. About the mission of his life: In the end, the gods again said to the Prince, “You are not an ordinary man. You have been sent into this world with a special purpose. It is your duty to save the mankind from sufferings. Now the proper time has come. So stand up and see the sufferings of mankind with your own eyes. Then find the ways to make them free from these sufferings.”

[ 1. परिचय- राजकुमार सिद्धार्थ राजसी सुख एवं ऐश्वर्य का जीवन व्यतीत कर रहे थे। वे पूर्ण आनन्द के वातावरण में रह रहे थे। एक दिन वीणा खिड़की की देहली पर रखी थी। हवा ने इसकी डोरियों को छुआ और अचानक तेजे संगीत पैदा हुआ। इस वीणा के चारों ओर जो व्यक्ति थे उन्होंने इस संगीत को सुना, किन्तु वे इसे समझ नहीं सके। यह राजकुमार के कानों में देवताओं का सन्देश था। इसलिए केवल सिद्धार्थ ही इसे समझ सके।

2. देवताओं, संसार तथा जीवन के विषय में- देवताओं ने कहा, “ऐ राजकुमार, हम पूरे संसार में घूमते हैं। हम सभी स्थानों पर कष्टों और दुःखों को देखते हैं। कोई भी व्यक्ति प्रसन्न नहीं है। जीवन एक संघर्ष है। यह हवा के समान है। मनुष्य यह नहीं जानता कि वह कहाँ से आया है ? वह यहाँ क्यों आया है और कहाँ जाएगा ?”

3. सांसारिक प्रेम के विषय में- उन्होंने पुन: कहा, “अपने व्यक्तिगत प्रेम तथा आकर्षणों को त्याग दो। तुम्हें अपने जीवन में एक आध्यात्मिक लक्ष्य को पाना है। सांसारिक प्रेम तुम्हारे लिए नहीं है, बल्कि साधारण व्यक्तियों के लिए है। प्रेम स्थायी नहीं होता है और जीवन केवल एक दिखावा मात्र है। तुम आनन्दों से घिरे हुए हो, किन्तु यह सभी झूठे हैं और उनका अन्त कष्टकारी है।”

4. उसके जीवन के उद्देश्य के विषय में- अन्त में देवताओं ने पुनः राजकुमार से कहा, “तुम एक साधारण मनुष्य नहीं हो। तुम्हें इस संसार में एक विशेष उद्देश्य के लिए भेजा गया है, अत: तुम्हारा यह कर्तव्य है कि मानव जाति को कष्टों से बचाओ। अब उचित समय आ गया है। इसलिए उठ खड़े होओ और मानव जाति के कष्टों को अपनी आँखों से देखो। फिर इन कष्टों से उन्हें मुक्त करने के उपाय ढूँढ़ो।”]

Question 3.
Why was the king worried about the prince ? What did he do to divert his mind to the life and pleasures of the palace ?
(राजा, राजकुमार के विषय में क्यों चिन्तित थे ? उन्होंने उसके मस्तिष्क को जीवन तथा महल के आनन्दों की ओर मोड़ने के लिए क्या किया ?)
Answer:
The Prince Siddhartha was the only son of king Shuddhodana. So the king was very happy and loved him very much. He provided the Prince all pleasures and luxuries of the palace. But one day a hermit prophesied that the prince Siddhartha would be a great king or saint. He would forsake worldly life and would embrace a religious life. At this thought the king was much troubled. Whenever he recalled the prophecy of the saint, he was worried.

So the king did his best to divert the Prince’s mind to the life and pleasures of the palace. The king did not want that the Prince should leave the world. He wanted to see him a great king. So, he arranged his marriage with the most beautiful princess Yashodhara.

One day the Prince desired to go to the city. The king allowed him. He made proper arrangements and ordered his charioteer channa to go with the Prince. He also ordered that the city should be decorated. There should be no painful sight on the way of the Prince, no ailing or old man should come on his way. He did all this to keep the Prince away from the pain and suffering of the world.

But all the attempts of the king failed. The Prince wanted to go out again quite unknown to the people. He saw those sights that changed his mind. Thus the king could not shut out the fate.

[ राजकुमार सिद्धार्थ, राजा शुद्धोदन के इकलौते पुत्र थे। इसलिए राजा बहुत प्रसन्न थे और उन्हें अत्यधिक प्यार करते थे। उन्होंने राजकुमार को महल के सभी सुख और विलासिताएँ प्रदान कीं। किन्तु एक दिन एक साधु ने भविष्यवाणी की कि राजकुमार सिद्धार्थ या तो एक महान् राजा बनेंगे या साधु। वे सांसारिक जीवन का त्याग कर देंगे और धार्मिक जीवन को अपना लेंगे, इस विचार से राजा बहुत परेशान थे, जब भी उन्हें साधु की भविष्यवाणी याद आती थी, वे परेशान हो जाते थे।

अत: राजा ने राजकुमार के मन को महल के आनन्दों और जीवन की ओर मोड़ने का भरसक प्रयास किया, राजा ये नहीं चाहते थे कि राजकुमार संसार का त्याग करें, वे उन्हें एक महान् राजा देखना चाहते थे, अतः उन्होंने एक अत्यन्त सुन्दर राजकुमारी यशोधरा से उनका विवाह निश्चित कर दिया।

एक दिन राजकुमार ने नगर में जाने की इच्छा प्रकट की। राजा ने उन्हें स्वीकृति प्रदान कर दी। उन्होंने उचित प्रबन्ध किए और आदेश दिया कि उनका सारथी चन्ना उनके साथ जाए। उन्होंने यह भी आदेश दिया कि नगर को सजाया जाए। राजकुमार के रास्ते में कोई भी दु:खदायी दृश्य न आए। कोई भी रोगी या बूढ़ा व्यक्ति उनके मार्ग में न आए। उन्होंने यह सभी कुछ राजकुमार को संसार के दु:खों और कष्टों से दूर रखने के लिए किया।

किन्तु राजा की सभी कोशिशें विफल हो गईं। राजकुमार ने जनता के बिना जाने, चुपचाप पुनः बाहर जाना चाहा। उन्होंने वे दृश्य देखे जिन्होंने उनके मन को बदल दिया। इस प्रकार राजा भाग्य के लिखे को मिटा नहीं सके।]

Question 4.
Why did king Shuddhodana send words to his people to decorate the city and make it look gay and happy for the Prince’s visit ? [M. Imp.]
(राजा शुद्धोधन ने अपनी प्रजा के पास यह समाचार क्यों भेजा कि वे राजकुमार के दौरे के समय नगर को सजाएँ और इसे आनन्द से भरपूर एवं सुखमय बनाएँ ?)
Or
Why did the king try to keep the Prince away from the pain and sufferings of the world?
(राजा ने यह कोशिश क्यों की कि राजकुमार संसार के कष्टों और दु:खों से दूर रहे ?)
Answer:
1. King’s efforts to make the Prince interested in worldly life : The king Shuddhodana loved the Prince very much because his mother had died when he was only seven days old. He was the only son of his father. The Prince was a born thinker. He had no interest in worldly life since his childhood. The king tried his best that the Prince should become interested in worldly life. The dream readers also had predicted him that the Prince would be either the king of kings or a great preacher and he would renounce the world.

2. Desire of the Prince to see the outside world: One day the Prince heard the music on Veena.. In reality it was the message of gods for him. So he desired to go to the city. He sought permission of the king to go round the city and see the outside world. The king gave him permission to see for himself the kingdom and its subjects. He made proper arrangements and ordered his charioteer Channa to go with the Prince.

3. Precautions made by the king : The king remembered of dream readers and he was doubtful of the Prince. So he ordered that the city should be decorated. There should be no painful sight on the way of the Prince. No ailing man or old man should come on his way. The aim of the king in doing so was that the Prince should be away from the pain and sufferings of the world.

[ 1. राजकुमार को सांसारिक जीवन में रुचि लेने के प्रति राजा के प्रयत्न- राजा शुद्धोदन राजकुमार को बहुत प्यार करते थे, क्योंकि उनकी माता का स्वर्गवास उसी समय हो गया था जब वे केवल सात दिन के थे। वे अपने पिता के एकमात्र पुत्र थे। राजकुमार जन्म से ही विचारशील थे। उन्हें सांसारिक जीवन में बचपन से ही कोई रुचि नहीं थी। राजा ने पूरी चेष्टा की कि राजकुमार सांसारिक जीवन में रुचि लेने लगें। सपना पढ़ने वालों ने भी भविष्यवाणी की थी कि या तो राजकुमार राजाओं का राजा बनेगा या एक महान् उपदेशक । तथा वह संसार को त्याग देगा।

2. बाह्य जगत को देखने की राजकुमार की इच्छा- एक दिन राजकुमार ने वीणा पर संगीत सुना। वास्तव में यह उसके लिए देवताओं का सन्देश था। इसलिए उन्होंने नगर में जाने की इच्छा की। उन्होंने राजा से नगर में जाने तथा बाहरी संसार को देखने की स्वीकृति माँगी। राजा ने उन्हें स्वयं राज्य तथा उसकी प्रजा को देखने की स्वीकृति दे दी। उन्होंने उचित प्रबन्ध भी कराये तथा चन्ना नामक सारथी को राजकुमार के साथ जाने की आज्ञा दी।

3. राजा के द्वारा की गई सावधानियाँ- राजा को सपना पढ़ने वालों की भविष्यवाणी याद थी और उन्हें राजकुमार पर सन्देह था। अत: उन्होंने आदेश दिया कि नगर को खूब सजाया जाए। कोई भी दु:खदायी दृश्य राजकुमार के रास्ते में न आए। कोई बीमार या बूढ़ा आदमी उनके रास्ते में न आए। ऐसा करने में राजा का यह उद्देश्य था. कि राजकुमार संसार के कष्टों और दु:खों से दूर रहें। ]

Question 5.
Describe the city of Kapilvastu as it looked like on the Prince’s first visit.
(राजकुमार के प्रथम दौरे के समय कपिलवस्तु नगर जैसा लग रहा था, उसका वर्णन कीजिए।)
Or
What were the preparations made in Kapilvastu for the visit of the Prince and why ?
(राजकुमार के दौरे के समय कपिलवस्तु में क्या-क्या तैयारियाँ की गईं और क्यों ?)
Or
How was the city decorated on the Prince’s first visit to it ? How did the – people welcome the Prince ?
(राजकुमार के पहले दौरे पर नगर को कैसे सजाया गया ? लोगों ने राजकुमार का स्वागत कैसे किया ?)
Or
Describe the preparations made in Kapilvastu to welcome Prince • Siddhartha on his maideu visit ?
(राजकुमार सिद्धार्थ के प्रथम दौरे के समय कपिलवस्तु में की गयी तैयारियों का वर्णन कीजिए।)
Answer:
1. Effect of king’s dream: The Prince had no interest in wordly life. The king had dreamt that the Prince would renounce the world and he would become a preacher. So the king ordered that the city should be decorated so that it might look gay and happy. In doing this the aim of the king was that the Prince should be attracted towards the world.

2. Cleanliness and decoration in the city : The whole of the city was cleaned and decorated. The water carriers sprinkled water on the streets. The house-wives scattered fresh red powder before their houses. The flower garlands were hanging on the doors. There were beautiful paintings on the walls. The sun was shining and the sunlight was making the crossings very beautiful. The city looked like an enchanted city.

3. Warm welcome of the Prince in the city: There was no evil sight on the street. No blind, sick, weak or old man was allowed to walk on the road. Many people were beating drums. They were welcoming the Prince in different ways. Some people offered rice, cake, etc. to the Prince at different places. They were crying “Jai ! Jai! for our noble Prince.” Thus whole of the way was full of pleasant scenes. The Prince was very glad to see all this.

[ 1. राजा के स्वप्न का प्रभाव- राजकुमार को सांसारिक जीवन में कोई रुचि नहीं थी। राजा ने स्वप्न देखा था कि राजकुमार संसार को छोड़ देंगे और साधु बन जाएँगे। इसलिए राजा ने आदेश दिया कि नगर को सजाया जाए जिससे वह आनन्ददायक दिखाई दे। ऐसा करने में राजा का उद्देश्य था कि राजकुमार संसार की ओर आकर्षित हो जाएँ।

2. नगर में सफाई और सजावट- पूरे नगर की सफाई की गई और उसे सजाया गया। भिश्तियों ने सड़क पर पानी छिड़का, औरतों ने अपने दरवाजों के सामने लाल सिंदूर छिड़का। दरवाजों पर फूलों की मालाएँ। लटकाई गईं। दीवारों पर सुन्दर चित्र लगाए गए। सूर्य चमक रहा था और धूप चौराहों को सुन्दर बना रही थी। नगर एक जादू की नगरी के समान दिख रहा था।

3. नगर में राजकुमार का भव्य स्वागत- सड़क पर कोई भी अप्रिय दृश्य नहीं था। किसी भी अन्धे. बीमार, कमजोर या बूढ़े मनुष्य को सड़क पर आने की स्वीकृति नहीं थी। बहुत-से लोग ढोल बजा रहे थे। वे भिन्न-भिन्न प्रकार से राजकुमार का स्वागत कर रहे थे। बहुत-से लोगों ने राजकुमार को भिन्न-भिन्न स्थानों पर चावल, केक, आदि भेंट किए। वे जोर-जोर से कह रहे थे, हमारे अच्छे राजकुमार की जय हो।’ इस प्रकार पूरा मार्ग आनन्ददायक दृश्यों से भरा हुआ था। राजकुमार इन सभी को देखकर प्रसन्न हुए।]

Question 6.
What did the Prince think when he saw an old man during his first visit to the city?
(जब राजकुमार ने अपने प्रथम भ्रमण के समय बूढ़े मनुष्य को देखा तब उन्होंने क्या सोचा?).
Answer:
1. Appearance of an old man : The Prince was very happy to see the beautiful scenes of the city during his first visit. It was the order of the king that no painful sight should come before the Prince. But all of a sudden an old man came out on the road before the Prince. His clothes were dirty and torn. His skin was dry and burnt brown by the sun. He had no flesh on his bones and no teeth in the mouth. He balanced himself on an old stick with great difficulty. He was feeling a great trouble in breathing also. He was begging alms. Although he could not speak due to cough yet he continued begging and spreading his hand. He was winking his eyes. His condition was so pitiable that it melted the heart of the Prince.

2. Channa’s statement about his condition: The Prince asked Channa about that man. Channa replied that he was an old man of 80 years of age. In his young age he was quite handsome and healthy. But the old age has made his life miserable. He is about to die now. He also advised the Prince not to look at him.

3. Condervation between the Prince and Channa: The Prince was very much disturbed again. He asked Channa, “Does it happen to all ?” Channa replied that th people who live long meet the same end. Again the Prince said, “If I and Yashodhara live long, shall we also meet the same end?” Channa said, “It is a must.” At this the Prince was so much disturbed that he asked Channa to return as he had never thought to see such things.

[ 1. एक बूढ़े आदमी का प्रकट होना- नगर में अपने प्रथम भ्रमण के समय सुन्दर दृश्यों को देखकर राजकुमार बहुत प्रसन्न थे। राजा को यह आदेश था कि कोई भी दुःखदायी दृश्य राजकुमार के सामने न आए। किन्तु अचानक एक बूढ़ा आदमी जकुमार के सामने सड़क पर आ गया। उसके कपड़े गन्दे और फटे हुए थे। उसकी त्वचा खुश्क तथा सूर्य की धूप से जलकर भूरी हो गयी थी। उसकी हड्डियों पर मांस न था और न मुँह में दाँत। वह बड़ी कठिनाई से अपने आपको एक छड़ी के सहारे साधे हुए था। साँस लेने में भी उसे बड़ी कठिनाई हो रही थी। वह भीख माँग रहा था। यद्यपि खाँसी एवं बलगम के कारण वह बोल नहीं सकता था फिर भी वह भीख माँगता रहा और हाथ फैलाता रहा। वह अपनी आँखें झपका रहा था। उसकी दशा इतनी दयनीय थी कि उसने राजकुमार के हृदय को भी पिघला दिया।

2. उसकी दशा के विषय में चन्ना का कथन- राजकुमार ने चन्ना से उस मनुष्य के विषय में पूछा। चन्ना ने उत्तर दिया कि वह 80 वर्ष का बूढ़ा है। अपनी युवावस्था में वह अत्यन्त सुन्दर एवं स्वस्थ था। किन्तु बुढ़ापे ने उसके जीवन को दु:खदायी बना दिया है। वह अब मरने वाला है। उसने राजकुमार को यह भी सलाह दी कि वे उसे न देखें।

3. राजकुमार और चन्ना के बीच वार्तालाप- राजकुमार पुनः अत्यन्त विचलित हो गए। उन्होंने चन्ना से पूछा, “क्या ऐसा सभी के साथ घटित होता है ?’ चन्नी ने उत्तर दिया कि जो व्यक्ति अधिक दिनों तक जीते हैं उन सभी का यही अन्त होता है। राजकुमार ने पुन: कहा, “यदि मैं और यशोधरां अधिक दिनों तक जीवित रहे तो क्या हमारा भी यही अन्त होगा ?’ चन्ना ने कहा कि यह अवश्यम्भावी है। इस पर राजकुमार इतने विचलित हो गये कि उन्होंने चन्ना से लौटने के लिए कहा, क्योंकि ऐसी बातें देखने का विचार भी उनके मन में कभी नहीं आया था। ]

Question 7.
Narrate in short the conversation that took place between the Prince and Channa while the Prince was holding the sick man. [M. Imp.]
(राजकुमार और चन्ना के बीच की बातचीत का संक्षेप में वर्णन कीजिए जबकिं राजकुमार बीमार आदमी को सँभाले हुए थे।)
Or
What did Channa tell the Prince about the sick man ? Hearing it what were the feelings of the Prince ?
(चन्ना ने उस बीमार व्यक्ति के विषय में राजकुमार को क्या बताया ? यह सुनकर राजकुमार की क्या भावनाएँ थीं ?)
Or
What does the Prince say to Channa when he sees the sick man ?
(जब राजकुमार ने बीमार आदमी को देखा तब उन्होंने चन्ना से क्या कहा ?)
Answer:
1. Appearance of a sick man : The Prince visited the city second time as a merchant. Channa was disguised as his clerk. They saw different types of people crying and moaning. They were passing over a river bridge when the Prince saw a very sick man. He was crying for help. The Prince took pity on him and lifted him. He put his head on his knees. The sick man felt some relief.

2. Channa’s reply to the Prince about his condition : Then the Prince asked Channa, “Why is his condition so pitiable ?” Channa’answered, “This man is suffering from any fatal disease. His blood is hot. His heart is not beating properly. His strength has gone. He will die soon. Then the disease would go and attack some other person.” He advised the Prince also not to hold him lest the disease should strike him.

3. Old age and death are inevitable : Then the Prince asked if other people also suffered like that. Channa answered, “The disease comes to all in one form or the other.” In reply to various questions of the Prince, Channa told him that the diseases come secretly and suddenly. All men live in fear and none can say that he would wake up as he had slept. Channa told him that the men who live long enough grow old and in the end they die.

[ 1. बीमार आदमी का प्रकट होना- राजकुमार ने नगर का दूसरी बार भ्रमण, एक व्यापारी के रूप में किया। चन्ना ने मुनीम का भेष बदल लिया था। उन्होंने भिन्न-भिन्न प्रकार के लोगों को कराहते हुए और चिल्लाते हुए सुना। वे नदी के एक पुल पर से गुजर रहे थे जब राजकुमार ने एक अत्यन्त बीमार आदमी को देखा। वह सहायता के लिए चिल्ला रहा था। राजकुमार ने उस पर दया की और उसे उठा लिया। उन्होंने उसका सिर अपने घुटनों पर रख लिया। बीमार आदमी ने अत्यन्त आराम का अनुभव किया।

2. उसकी दशा के विषय में चन्ना का राजकुमार को उत्तर- फिर राजकुमार ने चन्ना से पूछा, “इसकी दशा इतनी दयनीय क्यों है ?” चन्ना ने उत्तर दिया, “यह आदमी किसी प्राणघातक बीमारी से पीड़ित है। उसका रक्त गर्म है। उसके हृदय की धड़कन ठीक नहीं है। उसकी शक्ति समाप्त हो गई है। वह शीघ्र ही मर जाएगा। फिर बीमारी चली जाएगी और अन्य किसी व्यक्ति पर आक्रमण करेगी।” उसने राजकुमार को यह भी सलाह दी कि वह उस बीमार आदमी को न पकड़े, कहीं ऐसा न हो कि बीमारी उसके ऊपर आक्रमण कर दे।

3. बुढ़ापा और मृत्यु अटल- फिर राजकुमार ने पूछा कि क्या अन्य लोग भी उसके समान कष्ट उठाते हैं। चन्ना ने उत्तर दिया कि बीमारी किसी-न-किसी रूप में सभी को आती है। राजकुमार के भिन्न-भिन्न प्रश्नों के उत्तर में चन्ना ने उन्हें बताया कि बीमारी चुपचाप और अचानक आती है। सभी व्यक्ति भय में रहते हैं और कोई भी नहीं कह सकता कि वह जैसी सोया है वैसा ही उठेगा। चन्ना ने उन्हें बताया कि जो व्यक्ति अधिक दिनों तक जीते हैं, बूढ़े हो जाते हैं और अन्त में वे मर जाते हैं।]

Question 8.
“Is this the end which comes to all who live ?” who says it and what was the reply ?
(“जो व्यक्ति जीवित रहते हैं क्या उन सभी का यही अन्त होता है ?” ये शब्द कौन कहता है और उसे क्या उत्तर मिला ?)
Answer:
Prince Siddhartha said these words when he saw the dead body burning on the pyre. In a very short time it was burnt to ashes. This scene moved the Prince deeply. He asked Channa if that was the fate of every living being. Channa told him that this is the fate of every man. None is immortal in the world.

He further told the Prince that the flesh of a dead body is useless. Even the hungry crows do not eat it. The life of a man is very short. He lives, eats, drinks, laughs, loves and likes life well. Then death comes to him in any form and makes him dead. After death man feels nothing. He has no sense of smell, taste, hearing, sight or touch. His near and dear ones cry for him but there is no reply. Even his dearest ones hate to touch his dead body. It becomes impious for everybody. So this is the fate of every human being.

Hearing this, the eyes of Siddhartha were full of tears. He saw towards the sky and thought for a while. Then he said, “The world is caught in the net of woes and death. The pleasures of life are false. They end into sorrow. In our life youth is delightful, old age is painful and then the end is death.” Then he said to Channa, “I have seen more than enough. Now take me home.”

[ राजकुमार सिद्धार्थ ने ये शब्द उस समय कहे जब उन्होंने एक चिता पर एक लाश को जलते हुए देखा। बहुत थोड़े समय में यह जल कर राख हो गई। इस दृश्य ने राजकुमार को बहुत प्रभावित किया। उन्होंने चन्ना से पूछा कि क्या प्रत्येक जीवित प्राणी का यही अन्त होता है। चन्ना ने उन्हें बताया कि प्रत्येक व्यक्ति का यही अन्त होता है। संसार में कोई भी व्यक्ति अमर नहीं होता है।

उन्होंने राजकुमार को पुनः बताया कि एक मृत व्यक्ति का मांस बेकार होता है। भूखे कौवे भी इसे नहीं खाते। एक मनुष्य का जीवन बहुत छोटा होता है। वह जीवित रहता है, खाता है, पीता है, हँसता है, प्यार करता है। और जीवन को अच्छी प्रकार पसन्द करता है। फिर उसे किसी-न-किसी रूप में मृत्यु आ जाती है और उसे निर्जीव कर देती है। मृत्यु के बाद मनुष्य कुछ भी अनुभव नहीं करता, उसे पूँघने, स्वाद चखने, सुनने, देखने या स्पर्श करने का भी ज्ञान नहीं होता। उसके सगे-सम्बन्धी उसके लिए चिल्लाते हैं किन्तु कोई उत्तर नहीं मिलता। उसके सबसे प्रियजन भी उसके मृत शरीर को छूने से घृणा करते हैं। प्रत्येक व्यक्ति के लिए उसका मृत शरीर अपवित्र हो जाता है। अत: प्रत्येक प्राणी का यही अन्त होता है।

यह सुनकर सिद्धार्थ की आँखों में आँसू आ गए। उसने आकाश की ओर देखा और कुछ देर सोचा, फिर उन्होंने कहा, “संसार विपत्तियों और मृत्यु के जाल में फंसा हुआ है। जीवन के सुख झूठे हैं, उनका अन्त दुःख होता है। हमारे जीवन में युवावस्था आनन्द से भरपूर होती है, बुढ़ापा दुःखदायी होता है और फिर अन्त मृत्यु होती है। फिर उन्होंने चन्ना से कहा, “मैंने आवश्यकता से अधिक देख लिया है, अब मुझे घर ले चलो।”]

Question 9.
What were the seven visions that king Shuddhodana saw in his dream?
(राजा शुद्धोदन ने स्वप्न में कौन-कौन से सात दृश्य देखे ?) [M. Imp.]
Answer:
One night king Shuddhodana saw very awful visions in his dream which made him very upset. He lost all peace of mind. The same night the Prince Siddhartha was restless. He was lost in thinking about the old age and its sufferings. The seven visions dreamt by king Shuddhodana are given below :

  1.  He saw a beautiful broad flag. The sun was shining on it. It was making it bright. A strong wind tore it. It threw the flag into dust. A group of shadowy persons came and took away the flag. They went towards the east.
  2.  Then the king saw ten huge elephants. They had long white tusks. When they walked, the earth moved. The Prince was sitting on the leading elephant. They came on the southern road.
  3.  Then he saw a chariot. The Prince was sitting in it. Four fearful horses were drawing it. White smoke came out of their nostrils and foam came out of their mouth.
  4.  Then he saw a moving wheel. It was bright gold. There were jewels on its spokes. Something was written on tyres. It produced sweet music.
  5.  Then he saw a drum. It was placed between the city and hills. The Prince was beating it with an iron rod. It produced loud sound like thunder.
  6.  Then he saw a tower reaching the clouds. The Prince stood on its top. He was scattering jewels in every direction. The people from the whole world came to collect them.
  7.  Lastly the king saw six men weeping. They had closed their mouths with their hands. They looked very sad.

[ एक रात राजा शुद्धोदन ने अपने सपने में सात भयानक दृश्य देखे जिन्होंने उन्हें बहुत परेशान कर दिया। उनके मन की शान्ति समाप्त हो गई। उसी रात को राजकुमार सिद्धार्थ बहुत बेचैन थे। वे बुढ़ापे के विषय में तथा उसके कष्टों के विषय में सोचने में खोये हुए थे। राजा के द्वारा देखे गये सात दृश्य निम्नलिखित हैं

  1.  उन्होंने एक सुन्दर चौड़ा झण्डा देखा। सूर्य इस पर तेजी से चमक रहा था। यह उसे सुन्दर बना रहा था। एक तेज हवा ने इसे फोड़ दिया। उसने झण्डे को धूल में फेंक दिया। अदृश्य व्यक्तियों का एक समूह आया और झण्डे को ले गया। वे पूर्व की ओर चले गए।
  2.  फिर राजा ने दस बड़े हाथी देखे। उनके सफेद लम्बे-लम्बे दाँत थे। जब वे चलते थे तब पृथ्वी हिलती थी। राजकुमार आगे वाले हाथी पर बैठे थे। वे दक्षिण दिशा की सड़क पर आए।
  3.  फिर उन्होंने एक रथ देखा। राजकुमार इसमें बैठे थे। चोर भयानक घोड़े इसे खींच रहे थे। उनके नथुनों में से सफेद धुआँ और मुँह से झाग निकल रहे थे।
  4.  फिर उन्होंने एक घूमते हुए पहिए को देखा। यह चमकीले सुनहरे रंग का था। इसकी तीलियों पर गहने लटक रहे थे। इसके टायरों पर कुछ लिखा हुआ था। इसमें से मधुर संगीत निकल रहा था।
  5.  फिर उन्होंने एक ढोल देखा। यह नगर और पहाड़ियों के बीच रखा था। राजकुमार एक लोहे की छड़ से इसे बजा रहे थे। यह गरज के समान तेज आवाज पैदा कर रहा था।
  6.  फिर उन्होंने आकाश को छूती हुई एक मीनार देखी। राजकुमार इसकी चोटी पर खड़े थे। वे हर दिशा में हीरे-जवाहरात फेंक रहे थे। पूरे संसार से लोग उन्हें इकट्ठा करने आए।
  7.  अन्त में राजा ने छः आदमियों को रोते हुए देखा। उन्होंने अपने मुँह, अपने हाथों से बन्द कर लिए थे। वे बहुत दुःखी दिखाई दे रहे थे।]

Question 10.
Write in your own words the interpretation of the seven visions as given by the
hermit. [M. Imp.]
(स्वप्न के सातों दृश्यों की साधु के द्वारा बताई गई व्याख्या का वर्णन कीजिए।)
Or
Who interpreted the seven visions of king Suddhodana ? How did he interpret them?
(राजा शुद्धोदन के सात सपनों की व्याख्या किसने और कैसे की ?)
Or
What was the effect of the hermit’s prediction about the future of the Prince on the king of Kapilvastu ?
(राजकुमार के भविष्य के विषय में साधु की भविष्यवाणी का कपिलवस्तु के राजा पर क्या प्रभाव पड़ा?)
Or
What did the old man in robes of deer skin tell the king about his seven fears?
(हिरण की खाल के वस्त्र पहने हुए बूढ़े आदमी ने राजा को सात भय के विषय में क्या बताया ?)
Answer:
The dream was very fearful. So the king was much worried. Nobody in his kingdom could tell him the meaning of the visions. Then an unknown old man came to the king. He was clad in robes of deer skin. He told him the clear meanings of the seven visions.
First vision of flag means that the old faith will change and new faiths will take their place.

The second vision of ten elephants means that the Prince would gain ten gifts of * wisdom. He will shake the world. The four horses of the third vision signify four fearless virtues. These virtues will help the Prince to gain knowledge. This knowledge will make the Prince wise and happy. The wheel of the fourth vision was the wheel of perfect law. The Prince would turn this wheel. Thus he would save the humanity from sorrow.

The stormy sound of the drum in fifth vision means that the Prince would teach his principles in a loud voice.

The tower of the sixth vision means that his principles will grow like the tower. The Prince would scatter the treasure of the perfect law. The people of the world would accept them and follow them.

Lastly there were six men. The Prince would show them the follies of man’s life and would give them knowledge. Thus these six disciples of the Prince will become the teachers. They will preach to the man.

In the end the hermit told the king that all of it would happen in seven days and nights. The Prince would be greater than a king. He would be a great hermit.

[ स्वप्न बहुत भयानक था। इसलिए राजा बहुत चिन्तित था। राज्य में कोई भी व्यक्ति उसे इन दृश्यों का अर्थ न बता सका। तब एक अज्ञात बूढ़ा व्यक्ति राजा के पास आया। वह हिरण की खाल के कपड़े पहने हुए था। उसने उसे सातों दृश्यों के स्पष्ट अर्थ बताये।

झण्डे के पहले दृश्य का अर्थ था कि पुराने विश्वास या आस्थाएँ बदल जाएँगी और नयी उनका स्थान ले लेंगी।

दस हाथियों के दूसरे दृश्य का अर्थ था कि राजकुमार बुद्धि के उपहार प्राप्त करेंगे। वह संसार को हिला देंगे। तीसरे दृश्य के चार घोड़ों का अर्थ था, चार भयरहित गुण। ये गुण राजकुमार को ज्ञान प्राप्त करने में सहायता करेंगे। यह ज्ञान राजकुमार को बुद्धिमान् एवं प्रसन्न बनाएगा।

चौथे दृश्य का चक्र सम्पूर्ण नियमों का चक्र था। राजकुमार इस चक्र को घुमाएगा। इस प्रकार वह मानव जाति को दुःख से बचाएगा।

पाँचवें दृश्य में ढोल की तेज आवाज का अर्थ था कि राजकुमार अपने सिद्धान्तों को जोर की आवाज में सिखाएगा।

छठे दृश्य की मीनार का अर्थ है कि उसके सिद्धान्त मीनार के समान दूर तक फैलेंगे। राजकुमार सम्पूर्ण नियमों के रत्नों को बिखेरेगा। संसार के लोग उन्हें स्वीकार करेंगे और उनका अनुसरण करेंगे।

अन्त: में उसने छ: व्यक्ति देखे। राजकुमार उन्हें मनुष्य के जीवन की मूर्खताओं को दिखाएगा और उन्हें ज्ञान देगा। इस प्रकार राजकुमार के ये छः शिष्य गुरु बन जाएँगे। वे मनुष्य को उपदेश देंगे।

अन्त में साधु ने राजा को बताया कि यह सभी कुछ सात दिन में हो जाएगा। राजकुमार एक राजा से भी महान् होगा। वह बड़ा साधु होगा। ]

Question 11.
Describe in short, the procession of the dead body and its cremation as seen by the Prince.
(राजकुमार ने जो शवयात्रा तथा दाह-संस्कार देखा उसका संक्षेप में वर्णन कीजिए।)
Or
Describe the scene that moved Siddhartha the most.
(उस दृश्य का वर्णन कीजिए जिसने सिद्धार्थ को हिला दिया।)
Answer:
1. Second visit of the Prince to the city: The Prince Siddhartha wanted to see the city as it was. He put on the dress of a merchant and went to the city with Channa. It was his second visit. Nobody could recognise him. The Prince saw different sights in the city. Channa explained him why it all happened.

2. Procession of the dead body and other people : In the mean-time the Prince saw a dead body. Four men were carrying it on a bier on their shoulders. Some people were going behind it. They were lamenting. One of them had an earthen bowl in his hand. There were lighted coals in it. They were going to a river bank crying “Ram, Ram, o Ram, etc.”

3. Pyre and cremation of the dead body : On the river bank there was a heap of wood. They laid the dead body on it. Then they put some heavy and thick twigs of wood on it. Then they lit fire on the four corners of the pyre. Soon the whole of the heap of wood turned into ashes. Only some white bones were there in the ashes. The Prince saw this scene and lamented very much. Channa told him that this is the end which every living man meets. The scene moved Siddhartha the most.’

[ 1. राजकुमार का नगर में दूसरा भ्रमण- राजकुमार सिद्धार्थ, नगर को उसके वास्तविक रूप में देखना चाहते थे। उन्होंने एक व्यापारी के कपड़े पहने और चन्ना के साथ नगर को चले गए। यह उनका दूसरा भ्रमण था। उन्हें कोई भी व्यक्ति पहचान नहीं सका। राजकुमार ने नगर में भिन्न-भिन्न दृश्य देखे। चन्ना ने उन्हें समझाया कि ऐसा क्यों होता है।

2. शवयात्रा तथा अन्य व्यक्ति- इसी बीच राजकुमार ने एक लाश देखी। चार आदमी इसे एक बाँस की अर्थी पर अपने कन्धों पर ले जा रहे थे। कुछ व्यक्ति इसके पीछे जा रहे थे। वे विलाप कर रहे थे। एक के हाथ में मिट्टी का एक कटोरा था। इसमें सुलगते हुए कोयले थे। वे राम-राम कहते हुए एक नदी के किनारे की ओर जा रहे थे।

3. चिता तथा शवदाह- नदी के किनारे लकड़ियों का ढेर था। उन्होंने लाश को उस पर रख दिया। फिर उन्होंने उस पर लकड़ी के कुछ मोटे और भारी लट्ठे रखे। फिर उन्होंने इस चिता के चारों कोनों पर आग लगा दी। शीघ्र ही लकड़ियों का पूरा ढेर जलकर राख हो गया। राख में केवल कुछ सफेद हड्डियाँ ही बचीं। राजकुमार ने इस दृश्य को देखा और बहुत दु:खी हुआ। चन्ना ने बताया कि यही अन्त है जिसे प्रत्येक जीवित प्राणी को प्राप्त करना है। इस दृश्य ने सिद्धार्थ को हिला दिया।]

Question 12.
Reproduce in your own words the feelings of the Prince after he saw the sick, the old and dead men.
(संक्षेप में राजकुमार की उन भावनाओं को लिखिए जो उसके मन में बीमार, बूढ़े तथा मृत व्यक्तियों को देखकर आईं।)
Or
Describe briefly what the Prince saw during his two visits to the city of Kapilvastu.
(संक्षेप में उन बातों का वर्णन कीजिए जो राजकुमार ने कपिलवस्तु नगर के अपने दोनों भ्रमण के समय देखीं।)
Answer:
1. Feelings during first visit: On his first visit Prince Siddhartha saw an old man. He was very weak. He could hardly walk. His condition was very pitiable. Channa told him, “Age makes everybody weak. A man who lives long must grow weak.” The Prince was very sad. He remained thinking throughout the night. He wanted to know how love might save its sweetness from the time that makes man old.

2. Feelings during second visit : On his second visit he saw a man who was suffering from a fatal disease. He had lost all his energy. Channa said to him, “Diseases come to a man secretly and suddenly.” The Prince wanted to know the final end of man.

3. Feelings on seeing the dead body: In the mean time he saw a dead body. He saw it burning on a pyre. The eyes of the Prince were full of tears. He saw from the sky towards the earth and again towards the sky. He said, “Pleasures are false and miseries of life are true because all pleasures end into misery. Death is certain to all and it is the end of life.” He thought that he was also cheated. So he ordered Channa to return to the palace.

[ 1. पहले भ्रमण के समय की भावनाएँ- अपने प्रथम दौरे के समय राजकुमार सिद्धार्थ ने एक बूढ़े मनुष्य को देखा। वह बहुत कमजोर था। वह मुश्किल से ही चल पा रहा था। उसकी दशा दयनीय थी। चन्ना ने। उसे बताया, “आयु प्रत्येक व्यक्ति को कमजोर बना देती है। वह मनुष्य जो अधिक दिनों तक जीता है अवश्य कमजोर होता है। राजकुमार बहुत दुःखी था। वह पूरी रात सोचता रही। वह यह जानना चाहता था कि प्रेम अपनी सुन्दरता को उस समय से कैसे बचा सकता है जो मनुष्य को बूढ़ा बना देता है।

2. दूसरे भ्रमण के समय की भावनाएँ- अपने दूसरे दौरे के समय उसने एक ऐसा आदमी देखा जो किसी घातक बीमारी से पीड़ित था। उसने अपनी सारी शक्ति खो दी थी। चन्ना ने उसे बताया, “बीमारियाँ मनुष्य को चुपचाप आती हैं और अचानक आती हैं।” राजकुमार जानना चाहते थे कि मनुष्य का अन्त क्या होता है।

3. मृतक को देखने पर भावनाएँ- इसी बीच उन्होंने एक लाश देखी। उन्होंने इसे चिता पर जलते हुए देखा। राजकुमार की आँखों में आँसू भर आये। उन्होंने आकाश से पृथ्वी की ओर देखा फिर आकाश की ओर। उन्होंने कहा, “आनन्द झूठे हैं और जीवन के दु:ख सच्चे हैं, क्योंकि सभी सुखों का अन्त दु:ख है। मृत्यु सभी को निश्चित रूप से आती है और यही जीवन का अन्त है।” उसने सोचा कि उसे भी धोखा दिया गया है। इसलिए उसने चन्ना को महल में वापस चलने की आज्ञा दी।]

Question 13.
Narrate in short the conversation that took place between Prince Siddhartha and Channa at the sight of a dead body being burnt beside the stream.
Or
What did the Prince learn from the sights he saw and the conversation he had with Channa during his first visit to the city? How did it effect his life?
(संक्षेप में उस बातचीत का वर्णन कीजिए जो राजकुमार सिद्धार्थ तथा चन्ना के बीच उस समय हुई जब उन्होंने नदी के किनारे एक मृतक को जलते हुए देखा।)
Answer:
At the end of his second visit, the Prince saw some people carrying a dead body on a bier. They were saying ‘Ram, Ram, O Ram.’ They put it on a heap of wood and burnt it to ashes.

In a very short time all was burnt to ashes. This scene moved the Prince deeply. He asked Channa about it. Channa told him that this is the fate of every man. Every man has to meet this fate again and again.

The eyes of Siddhartha were full of tears. He saw towards the sky and thought for a while. Then he said, “The world is caught in the net of woes and death. The pleasures of life are false. They end into sorrow. In our life youth is delightful, old age is painful and then the end is death.”

Then he said to Channa, “I have seen more than enough. Now take me home.”

[ अपने दूसरे दौरे के अन्त में राजकुमार ने देखा कि कुछ लोग एक अर्थी पर एक मृतक शरीर को ले जा रहे हैं। वे कह रहे हैं, “राम नाम सत्य है,” उन्होंने इस शव को एक लकड़ी के ढेर पर रख दिया और जलाकर राख कर दिया।

थोड़े समय में सभी कुछ राख हो गया। इस दृश्य ने राजकुमार को बहुत प्रभावित किया। उन्होंने चन्ना से इसके विषय में पूछा। चन्ना ने उन्हें बताया कि प्रत्येक व्यक्ति का यही परिणाम होता है। प्रत्येक व्यक्ति को बार-बार यही परिणाम भुगतना पड़ता है।

सिद्धार्थ की आँखें आँसुओं से भर गयीं। उसने आकाश की ओर देखा और थोड़ी देर सोचा, फिर उसने कहा, ‘संसार दुःखों और मृत्यु के जाल में फंसा हुआ है। जीवन के सुख झूठे हैं। उनका अन्त दु:खों में होता है। हमारे जीवन में जवानी आनन्ददायक, बुढ़ापा दुःखदायी तथा अन्त मृत्यु है।”

फिर उन्होंने चन्ना से कहा, “मैंने आवश्यकता से अधिक देख लिया है। अब मुझे घर ले चलो।”]

Question 14.
Why did the sight of the old, the sick and the dead man move the Prince so deeply ? [M. Imp.]
(बूढ़े, बीमार तथा मृत व्यक्ति के दृश्य ने राजकुमार को इतना दु:खी क्यों किया ?)
Or
What were the three sights that made the Prince sad and sorrowful ?
(वे कौन-से तीन दृश्य थे जिन्होंने राजकुमार को दु:खी और उदास कर दिया ?)
Or Describe the three sights that made the Prince sad.
(उन तीन दृश्यों का वर्णन कीजिए जिन्होंने राजकुमार को दु:खी कर दिया।)
Or What were the three sights that made the Prince extremely sad ?.
(वे कौन-से तीन दृश्य थे जिन्होंने राजकुमार को अत्यधिक दु:खी कर दिया ?)
Answer:
1. Mission of his life: The Prince was a born thinker. He was sent in this world to save the mankind from pains and sufferings. It was the mission of his life to see the world as it was and to know its miseries. So he was very sensitive, pitiful and sympathetic.

2. Disturbed to see the old man : The Prince was passing a life of luxuries in the palace. During his first visit the Prince saw the city very beautiful and decorated. The king had ordered that no painful sight should come on the way of the Prince. But by chance a very old and weak man came before the Prince. When the Prince asked. Channa told him, “Old age has made the life of this man miserable. He is about to die now. All people will meet the same end.” At this the Prince was so much disturbed that he asked Channa to return home.

3. Moved to see the sick man : During his second visit the Prince saw a sick man. Channa told him that he was suffering from an infectious disease. He had lost all his strength. Channa told him, “Disease may come to anybody at any time.” On seeing this sight the Prince’s heart was filled with sorrow and despair.

4. Moved to see the funeral of a dead body: Then the Prince saw a procession of a dead body and its funeral. This was the most pitiable and miserable condition of man. The Prince realized that all the pleasures of life end into miseries. Death is the end of our life. Thus the sight of the old, the sick and the dead man moved the Prince deeply.

[ 1. उनके जीवन का उद्देश्य- राजकुमार जन्मजात विचारक थे। उन्हें इस संसार में मानव जाति को दु:खों एवं कष्टों से बचाने के लिए भेजा गया था। उनके जीवन का उद्देश्य था संसार को उसके वास्तविक रूप में देखना और दुःखों को जानना। इसलिए वह बहुत भावुक, दयालु और सहानुभूतिपूर्ण थे।

2. बूढ़े आदमी को देखने पर परेशान- राजकुमार महल में सुख-ऐश्वर्य का जीवन व्यतीत कर रहे थे। अपने पहले भ्रमण में राजकुमार ने नगर को अत्यन्त सुन्दर एवं सजा हुआ देखा। राजा ने यह आदेश दिया था कि कोई भी दुःखदायी दृश्य राजकुमार के रास्ते में न आए। किन्तु संयोग से एक बहुत बूढ़ा और कमजोर मनुष्य राजकुमार के सामने आ गया। पूछने पर चन्ना ने राजकुमार को बताया, “बुढ़ापे ने इस मनुष्य के जीवन को इतना दु:खदायी बना दिया है। वह अब मरने वाला है। सभी व्यक्तियों का यही अन्त होगा। इस पर राजकुमार इतने परेशान हो गए कि उन्होंने चन्ना से घर लौटने के लिए कहा।

3. बीमार आदमी को देखकर दुःखी- अपने दूसरे भ्रमण के समय राजकुमार ने एक बीमार आदमी को देखा। चन्ना ने उन्हें बताया कि वह एक संक्रामक रोग से पीड़ित है। उसकी शक्ति समाप्त हो गई है। चन्ना ने उन्हें बताया, “बीमारी किसी भी व्यक्ति को किसी भी समय आ सकती है।” इस दृश्य को देखकर राजकुमार का हृदय दुःख और निराशा से भर गया।

4. शव का अन्तिम संस्कार देखकर दुःखी- फिर राजकुमार ने एक शव यात्रा तथा उसका दाह-संस्कार देखा। यह मनुष्य की अत्यन्त दयनीय एवं दु:खी दशा थी। राजकुमार ने अनुभव कर लिया कि जीवन के सभी आनन्दों का अन्त दु:ख है। हमारे जीवन का अन्त मृत्यु है। इस प्रकार बूढ़े व्यक्ति, बीमार व्यक्ति तथा मृत व्यक्ति के दृश्यों ने राजकुमार को अत्यन्त दु:खी किया।]

Question 15.
“It is enough, my eyes have seen enough.” who says this and why?
(“यह पर्याप्त है, मेरी आँखें पर्याप्त देख चुकी हैं। यह बात कौन कहता है और क्यों ?)
Or
“It is enough, my eyes have seen enough”. What is the significance of this statement ?
(“यह पर्याप्त है, मेरी आँखें पर्याप्त देख चुकी हैं। इस कथन का क्या महत्त्व है ?)
Answer:
1. Who says this? Its significance: “It is enough, my eyes have seen enough” is spoken by the Prince Siddhartha at the end of his second visit to the city. The sentence is very significant because it points out how a change in the outlook of the Prince took place. This sentence shows the mental agony of the Prince. He had realized everything and did not want to see anything more.

2. Effect of different sights during his visits : The Prince Siddhartha was living in the pleasures and luxuries of the palace. But he keenly desired to see the outside world. During his first visit he saw a very old man. He was so much pained to see him that he at once returned home. During his second visit he saw a man suffering from an infectious disease. Then he saw a dead body and its funeral. So these were the most pitiable and miserable conditions of man’s life.

3. Changes in his outlook of life : He realized that all the pleasures of life end into miseries. Death is the end of our life. He came to know that all men-born, live, suffer row old and die. His early life was full of comforts, ease and joy. But now he knew the reality of life. Now for him life was false, full of sorrow and despair. His ideas about life changed. He was unable to see anything more. So he asked his charioteer, Channa, to return home.

[ 1. यह बात कौन कहता है ? इसका महत्त्व- “यह पर्याप्त है, मेरी आँखों ने पर्याप्त देख लिया है” नगर के अपने दूसरे भ्रमण के अन्त में राजकुमार सिद्धार्थ कहते हैं। यह वाक्य बहुत महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि यह बताता है कि राजकुमार के दृष्टिकोण में परिवर्तन कैसे आया। यह वाक्य राजकुमार के मस्तिष्क के दु:ख को भी बताता है। उन्होंने समस्त बातों का अनुभव कर लिया था तथा वह और अधिक कुछ नहीं देखना चाहते थे।

2. उनके भ्रमण के समय भिन्न- भिन्न दृश्यों का प्रभाव-राजकुमार सिद्धार्थ महल के ऐश्वर्यों में रह रहे थे। किन्तु बाह्य संसार को देखने की भी उनकी प्रबल इच्छा थी। अपने प्रथम भ्रमण के समय उन्होंने एक बहुत बूढ़े व्यक्ति को देखा। उसे देखकर उन्हें इतना दुःख हुआ कि वे तुरन्त अपने घर को लौट पड़े। अपने दूसरे भ्रमण के समय उन्होंने संक्रामक रोग से पीड़ित एक मनुष्य को देखा। फिर उन्होंने एक मुर्दे को तथा उसके दाह-संस्कार को देखा। ये मनुष्य के जीवन की सबसे अधिक दयनीय एवं दु:खी अवस्थाएँ थीं।।

3. जीवन के प्रति उनके दृष्टिकोण में अन्तर- उन्होंने अनुभव कर लिया कि जीवन के समस्त सुखों का अन्त दुःखों में होता है। मृत्यु हमारे जीवन का अन्त है। उन्हें पता लग गया कि सभी मनुष्य जन्म लेते हैं, जीवित रहते हैं, कष्ट भोगते हैं, बूढ़े होते हैं और मर जाते हैं। उनका आरम्भ का जीवन आराम, चैन एवं सुख से भरपूर था। किन्तु अब उन्हें जीवन की वास्तविकता का पता लग गया। अब जीवन उनके लिए झूठा तथा दु:ख एवं निराशा से भरपूर था। जीवन के विषय में उनके विचार बदल गये। वह अब और अधिक देखने में असमर्थ थे। इसलिए उन्होंने अपने सारथी चन्ना से घर लौटने के लिए कहा।]

Question 16.
Attempt a critical appreciation of the poem.
(कविता की आलोचनात्मक व्याख्या कीजिए।)
Or
why do you like the poem “The Light of Asia”?
(“The Light of Asia’ कविता को आप क्यों पसन्द करते हैं ?)
Answer:
1. Introduction: The Light of Asia’ is an epic on the life of Lord Buddha. The book is divided into eight cantos. The poet has described the life and teachings of Lord Buddha. The eighth canto of this book gives the message of Lord Buddha. Arnold himself says about this poem, “I have sought to depict the life and character and indicate the philosophy of that noble hero and reformer Prince Gautam of India, the founder of Buddhism.”

2. Language and style : The poem is written in blank verse which is most suited for epic poetry. The style of the poem is interesting and charming. The language of the poem is not very simple but it is dignified. The poet has used here and there some Hindi words also which give grace to the poem. The poet has aptly used similes and metaphors.

3. Theme : The theme of the poem is very noble. It is the life of a great Prince who sacrifices his own luxuries for the cause of mankind. He looks the realities of worldly life with his own eyes. He is moved by pitiable sights. He resolves to relieve mankind from these sufferings.

4. Description : The description of the poem is real and living. When we read the poem, we feel as if all incidents are taking place before our own eyes. The description of the palace, city, conversation between Prince and King, Prince and Channa, Prince and his wife, etc. are also real and interesting. Our interest from the beginning up to the end continues.

5. Lesson which we learn : From the poem we learn that all the pleasures of life are vain and temporary. They end into misery. We should love all the mankind. These are the reasons why I like this poem The Light of Asia’.

[ 1. परिचय- The Light of Asia’ भगवान् बुद्ध के जीवन पर एक महाकाव्य है। पुस्तक को आठ काण्डों में बाँटा गया है। कवि ने भगवान् बुद्ध के जीवन और शिक्षाओं का वर्णन किया है। इस पुस्तक का आठवाँ काण्ड:भगवान् बुद्ध का सन्देश देता है। इस कविता के विषय में आनल्ड स्वयं कहता है, “मैंने उस श्रेष्ठ नायक के जीवन और चरित्र का वर्णन करने की चेष्टा की है और उस समाज-सुधारक एवं भारत के राजकुमार की विचारधारा को प्रकट करने की चेष्टा की है जो बौद्ध धर्म का संस्थापक है।”

2. भाषा एवं शैली- कविता ब्लैंक वर्स (गद्य) में लिखी हुई है जो महाकाव्य के लिए सबसे उपयुक्त है। कविता की शैली रोचक एवं सुन्दर है। कविता की भाषा बहुत सरल नहीं है किन्तु यह सारगर्भित है। जहाँ-तहाँ कवि ने कुछ हिन्दी के शब्द भी प्रयोग किए हैं जो कविता को सुन्दरता प्रदान करते हैं। कवि ने उचित ढंग से उपमा और रूपक अलंकारों का प्रयोग किया है।

3. कथावस्तु- कविता की कथा बहुत श्रेष्ठ है। यह एक महान् राजकुमार का जीवन है जिसने अपने सारे सुखों का मानव जाति के लिए बलिदान कर दिया। वह अपनी आँखों से सांसारिक जीवन की वास्तविकताओं को देखता है। वह दयनीय दृश्यों से प्रभावित हो जाता है। वह मानव जाति को इन कष्टों से छुटकारा दिलाने का निश्चय कर लेता है।

4. वर्णन- कविता का वर्णन वास्तविक एवं सजीव है। जब हम कविता को पढ़ते हैं तब हमें ऐसा लगता है मानो सारी घटनाएँ हमारी आँखों के सामने हो रही हों। महल तथा नगर का वर्णन, राजकुमार तथा राजा में, राजकुमार और चन्ना में, राजकुमार तथा उसकी पत्नी में वार्तालाप भी वास्तविक और रोचक हैं। आरम्भ से अन्त तक हमारी रुचि बनी रहती है।

5. शिक्षा, जो हम सीखते हैं- इस कविता से हम सीखते हैं कि जीवन के सभी आनन्द व्यर्थ और क्षणिक हैं। उनका दुःखों में अन्त होता. है। हमें सभी मानव जाति से प्रेम करना चाहिए।
यही कारण हैं कि मैं ‘The Light of Asia’ कविता को पसन्द करता हूँ।]

Question 17.
Give a character sketch of Prince Siddhartha on the basis of the text read. [M. Imp.]
(पाठ्य-पुस्तक के आधार पर राजकुमार सिद्धार्थ का चरित्र-चित्रण कीजिए।).
Or
Describe the qualities that the Prince had on the basis of the text.
(पाठ्य-पुस्तक के आधार पर राजकुमार के गुणों का वर्णन कीजिए।)
Answer:
Prince Siddhartha was the only son of king Shuddhodana. The king loved him very much. He provided him all the luxuries of the palace. The astrologers had told the king that the Prince would be a great hermit. In the end he came to be known as Lord Buddha. We find in him the following qualities :

1. A born thinker: The Prince was not an ordinary man. He was very thoughtful from his childhood. He was born in a royal family. His life was full of luxuries and comforts. Yet he always thought about the life outside the palace. He wanted to see the realities of life. So he visited the city twice.

2. Loving, merciful and sympathetic : When the Prince saw an old man, a sick man and a dead body, he was very much grieved. He said, “The world suffers from fear. Love is short lived. Life ends into hateful death. So I shall do my best not to let anyone cry with pain.” When he saw the sick man crying for help, he lifted him up and * comforted him. Thus he was loving, merciful and sympathetic.

3. A good son and a good husband : The Prince was a good son. He obeyed his father and always sought permission to go to the city. He was a loving and true husband also. He could never bear the tears in the eyes of his wife, Yashodhara.

4. Curious for knowledge : The Prince was very curious to get the knowledge of the world and its sufferings. He asked Channa many questions and got knowledge about different happenings.

5. A super human : The Prince had an extraordinary understanding. He got knowledge very soon. He sacrificed all his kingly pleasures and left home. He gave valuable advice to the people. So he became known by the name of Gautam Buddha.

[ राजकुमार सिद्धार्थ, राजा शुद्धोदन का एकमात्र पुत्र था। राजा उसे बहुत अधिक प्यार करता था। उसने उसे महल के सभी सुख प्रदान कर दिये थे। ज्योतिषियों ने राजा को बताया था कि राजकुमार एक बहुत बड़ा साधु बनेगा। अन्त में वे भगवान् बुद्ध के नाम से प्रसिद्ध हुए। हम उनमें निम्नलिखित गुण पाते हैं-

1. एक जन्मजात व्रिचारक- राजकुमार एक साधारण व्यक्ति नहीं थे। वे बचपन से ही अत्यन्त विचारशील व्यक्ति थे। वे एक शाही परिवार में पैदा हुए थे। उनका जीवन विलासिता एवं सुखों से भरपूर था। फिर भी वे सदा महल के बाहर के जीवन के विषय में सोचते थे। वे जीवन की वास्तविकताओं को देखना चाहते थे। इसलिए उन्होंने दो बार नगर को देखा।

2. प्रिय, दयावान एवं सहानुभूतिपूर्ण- जब राजकुमार ने एक बूढ़े, एक बीमार आदमी तथा एक लाश को देखा तब उन्हें बड़ा दुःख हुआ। उन्होंने कहा, “संसार, भय से पीड़ित है। प्रेम का जीवन बहुत छोटा है। जीवन का अन्त घृणा से भरपूर मृत्यु में होता है। इसलिए मैं पूरा प्रयत्न करूंगा कि कोई भी व्यक्ति दु:ख में न रोए।” जब उन्होंने एक बीमार आदमी को सहायता के लिए चिल्लाते हुए देखा तब उन्होंने उसे उठा लिया और सान्त्वना दी। इस प्रकार वे प्रिय, दयावान एवं सहानुभूतिपूर्ण थे।

3. एक अच्छा बेटा और एक अच्छा पति- राजकुमार एक अच्छे पुत्र थे। उन्होंने अपने पिता की आज्ञा मानी और प्रत्येक बार नगर को जाते समय उनकी स्वीकृति माँगी। वे एक प्यारे एवं सच्चे पति भी थे। वे अपनी पत्नी यशोधरा की आँखों में आँसू सहन नहीं कर पाते थे।

4. ज्ञान के लिए उत्सुक- राजकुमार संसार एवं उसके कष्टों का ज्ञान पाने के लिए बहुत उत्सुक थे। उन्होंने चन्ना से बहुत-से प्रश्न किए और भिन्न-भिन्न घटनाओं के विषय में ज्ञान प्राप्त किया।

5. एक सर्वोच्च मनुष्य- राजकुमार में विलक्षण बुद्धि थी। उन्होंने बहुत जल्दी ज्ञान प्राप्त कर लिया। उन्होंने अपने समस्त राजसी आनन्दों को त्याग दिया और घर भी छोड़ दिया। उन्होंने लोगों को अत्यन्त उपयोगी शिक्षा दी। इसलिए वे गौतम बुद्ध के नाम से प्रसिद्ध हो गए। ]

Question 18.
who is Channa ? Discuss his role and importance in the poem.
(चन्ना कौन है ? कविता में उसकी भूमिका एवं महत्त्व को बताइए।) [M. Imp.]
Or
Elucidate the character of Channa.
(चन्ना के चरित्र पर प्रकाश डालिए।)
Or
“Channa was not only a charioteer but also a guide of prince Siddhartha.” Comment on it.
(“चन्ना राजकुमार सिद्धार्थ का केवल सारथी नहीं था, बल्कि पथ-प्रदर्शक भी था। इस पर टिप्पणी कीजिए।)
Answer:
1. Introduction : Channa is the charioteer of Prince Siddhartha. But he is his friend, philosopher and guide too. Wherever the Prince goes, he accompanies him. We always find him with the Prince.

2. As an obedient servant: Channa is the obedient servant of the king Shuddhodana as well as Prince Siddhartha. The king ordered him to go to the city with the Prince two times. Every time Channa obeyed him and fulfilled his duty sincerely. During the Prince’s visit to the city, Channa obeys him also. Whatever the Prince asks him, he answers it very intelligently. Whenever the Prince asks him to return to the palace, he obeys him willingly.

3. As a philosopher and guide : Channa is very intelligent and knows the realities of life very well. The Prince asks him many questions about sickness, old age, death, life and this world. Channa answers them very wisely and properly. So  the Prince is satisfied with him. He has the knowledge of human life and the causes of human sufferings. Channa never misguides the Prince. He serves him as a true guide. Therefore the Prince also regards him most.

4. Importance of his role: The role of Channa in the poem is very important. Channa guides the Prince very honestly and intelligently. No other man could have done so. It is the advice and guidance of Channa that the Prince resolved to leave the world and relieve man from pains. Without Channa this epic would have been something else. “‘o Channa is the most important character of this epic.

[ 1. परिचय- चन्ना, राजकुमार सिद्धार्थ का सारथी है। किन्तु वह एक मित्र, दार्शनिक और पथ-प्रदर्शक भी है। जहाँ कहीं राजकुमार जाते हैं वह उनके साथ जाता है। हम सदा उसे राजकुमार के साथ पाते हैं।

2. एक आज्ञाकारी सेवक- चन्ना, राजा शुद्धोदन का भी और राजकुमार सिद्धार्थ का भी आज्ञाकारी सेवक है। राजा ने उसे राजकुमार के साथ नगर में जाने की दो बार आज्ञा दी। प्रत्येक बार चन्ना ने उनकी आज्ञा का पालन किया और अपने कर्तव्य को ईमानदारी से निभाया। राजकुमार के नगर में भ्रमण के दौरान चन्ना उनकी भी आज्ञा का पालन करता है। जो कुछ भी राजकुमार उससे पूछते हैं, वह बहुत समझदारी से उसका उत्तर देता है। जब कभी राजकुमार उससे महल में वापस चलने को कहते हैं, वह उनकी आज्ञा मानता है।

3. एक दार्शनिक और मार्गदर्शक के रूप में- चन्ना बहुत समझदार है और जीवन की वास्तविकताओं को भली प्रकार जानता है। राजकुमार उससे बीमारी, बुढ़ापे, मृत्यु, जीवन और इस संसार के विषय में अनेक प्रश्न पूछते हैं, चन्ना उनका उत्तर बहुत बुद्धिमानी और उचित ढंग से देता है। इसलिए राजकुमार उससे सन्तुष्ट हो जाते हैं। उसे मानव जीवन तथा मनुष्य के कष्टों के कारण का ज्ञान है। चन्ना राजकुमार को कभी भी पथभ्रष्ट नहीं करता है। वह उनकी एक सच्चे मार्गदर्शक के रूप में सेवा करता है। इसीलिए राजकुमार भी उसका अत्यधिक सम्मान करते हैं।

4. उसकी भूमिका का महत्त्व- कविता में चन्ना की भूमिका बहुत महत्त्वपूर्ण है। चन्ना बड़ी ईमानदारी और समझदारी से राजकुमार का मार्गदर्शन करता है। और कोई अन्य व्यक्ति ऐसा नहीं कर सकता था। चन्ना की शिक्षा और मार्गदर्शन का ही यह परिणाम है कि राजकुमार को संसार का परित्याग करने और मनुष्य को उसके कष्टों से मुक्ति दिलाने का दृढ़ निश्चय करना पड़ा। चन्ना के बिना यह महाकाव्य कुछ और ही होता। इसलिए चन्ना इस महाकाव्य का अत्यन्त महत्त्वपूर्ण पात्र है।]

Question 19.
Elucidate the character of Yashodhara and Shuddhodana.
(यशोधरा एवं शुद्धोदन के चरित्र पर प्रकाश डालिए।)
Answer:
Character of Yashodhara : Yashodhara is the wife of Prince Siddhartha. She is young and beautiful. She is very tender-hearted. We see her in this poem only in the beginning. This is the reason that much about her character is not known.

She is a faithful wife. She loves her husband most. She becomes restless to see her husband worrying and thinking. She makes him sleep in her lap and fans him. She gives him as much comfort as she can. So she is an ideal Hindu lady.

Character of Shuddhodana : Shuddhodana is the king of Kapilvastu. He has only one son named Siddhartha. The king is a very important character of this poem.

The king dreamt seven visions. So he was very much afraid. He wanted to know the meaning of these visions. An old man told him the true meaning of the dream. The king was very much worried. So this thing shows that the king was superstitious.” The king is a loving father. He cannot bear that his only son should renounce home and become a hermit. So he provides all the comforts and luxuries to the Prince. He .. does not want that the Prince should know about the worldly pains. So he arranges guards at the gate.

But the king is very liberal also. When the Prince desired to visit the city, he agreed. But he announced that no evil sight should come on his way.

The king had a great respect for the hermits and his ministers. When the old hermit told him the meaning of his dream, he sent him gifts. From time to time he consults his ministers also.

[ यशोधरा को चरित्र- यशोधरा, राजकुमार सिद्धार्थ की पत्नी है। वह नवयुवती एवं सुन्दर है। वह बहुत कोमल हृदय वाली है। हम उसे इस कविता के केवल आरम्भ में ही देखते हैं। इसलिए उसके चरित्र के विषय में अधिक ज्ञात नहीं है।

वह एक वफादार पत्नी है। वह अपने पति से बहुत प्यार करती है। वह अपने पति को चिन्तित तथा विचारों में डूबा हुआ देखकर बेचैन हो जाती है। वह उसे अपनी गोद में सुलाती है और पंखा झलती है। वह उसे जितना आराम दे सकती है, देती है। इसलिए वह एक आदर्श हिन्दू स्त्री है।

शुद्धोदन का चरित्र- शुद्धोदन कपिलवस्तु का राजा है। उसका सिद्धार्थ नाम का केवल एक पुत्र है।

राजा इस कविता का मुख्य पात्र है। राजा ने सपने में सात दृश्य देखे। इस कारण वह बहुत भयभीत था। वह इन दृश्यों के अर्थ जानना चाहता था। एक बूढ़े आदमी ने उसे सपने का सच्चा अर्थ बताया। राजा बहुत चिन्तित था। इस कारण यह बात बताती है। कि राजा अन्धविश्वासी था।

राजा एक प्रिय पिता है। वह यह सहन नहीं कर सकता कि उसका इकलौता बेटा घर छोड़ दे और साधु बन जाये। इसलिए वह राजकुमार को सभी सुख-सुविधाएँ प्रदान करता है। वह नहीं चाहता कि राजकुमार सांसारिक दु:खों के विषय में जाने। इसलिए वह दरवाजे पर रक्षक नियुक्त कर देता है।

किन्तु राजा उदार भी है। जब राजकुमार ने नगर को देखने की इच्छा प्रकट की तब वह सहमत हो गया। किन्तु उसने यह घोषित कर दिया कि उसके रास्ते में कोई अप्रिय दृश्य न आए।

राजा साधुओं तथा मंत्रियों को बहुत सम्मान करता था। जब बूढ़े साधू ने उसे सपने का अर्थ बताया तब उसने उसे बहुत से उपहार भेजे। समय-समय पर वह अपने मन्त्रियों की राय भी लेता है।]

Question 20.
what was the effect of Chitra’s story on the mind of the Prince ?
(चित्रा की कहानी का राजकुमार के मस्तिष्क पर क्या प्रभाव पड़ा ?)
Or
Who is Chitra ? Narrate in short the conversation that took place between the Prince and Chitra.
(चित्रा कौन है ? राजकुमार और चित्रा के बीच के वार्तालाप का वर्णन कीजिए।)
Or
Describe Prince Siddhartha’s restlessness as depicted in his conversation with Yashodhara and Chitra in the court scene. (राजकुमार सिद्धार्थ की बेचैनी का वर्णन कीजिए जो उसे दरबार के दृश्य में उस समय हुई जब वह यशोधरा और चित्रा से बात कर रहा था।)
Answer:
One evening Prince Siddhartha was sitting with his courtiers and his wife Yashodhara. Chitra was a maid servant. She was singing a sweet song. All of a sudden she stopped and began to tell them a story of olden days. This story was about love, a magic horse and wonderful countries. She told that the pale people lived there. When it was night, the sun sank into the sea.

Hearing this story, the Prince was reminded of the song of Veena. The Prince was restless. He sighed and asked Yashodhara many questions. Some of those important questions are given below:

  1.  Is the world so wide?
  2.  Is there a country where the sun is seen sinking into the sea ?
  3.  Are there many unknown and sad people whom we can help ?
  4.  Who welcomes, the first beam of the sun at the edge of the world ?
  5.  How are the people at another edge of sky where the sun sinks into the sea ?

Thus the Prince desired to see the people at both of these edges, in the East as well as in the West. He requested Chitra to tell him where the magic horse was tied. He wanted to ride on it to see the whole world. Besides this so many other ideas about the world struck his mind. He had an earnest desire to see things outside the palace.

[ एक दिन सायंकाल राजकुमार सिद्धार्थ अपनी पत्नी यशोधरा तथा दरबारियों के साथ बैठे हुए थे। चित्रा उनकी नौकरानी थी। वह बहुत सुन्दर गीत गा रही थी। अचानक वह रुक गई और उन्हें पुराने दिनों की एक कहानी सुनाने लगी। यह कहानी प्रेम, जादू के घोड़े तथा अद्भुत देशों के विषय में थी। उसने बताया कि वहाँ पीले अर्थात् दुःखी लोग रहते हैं। जब रात्रि हो जाती है तब सूर्य समुद्र में डूब जाता है।

यह कहानी सुनकर राजकुमार को वीणों के गीत की याद आ गयी। राजकुमार बहुत बेचैन थे। उन्होंने आह भरी और यशोधरा से अनेक प्रश्न पूछे। कुछ महत्त्वपूर्ण प्रश्न नीचे दिये गये हैं–

  1.  क्या संसार इतना विस्तृत है ?
  2.  क्या कोई ऐसा देश है जहाँ सूर्य समुद्र में डूबता हुआ दिखायी देता है ?
  3.  क्या संसार में बहुत से अज्ञात और दु:खी लोग हैं जिनकी हमें सहायता कर सकते हैं ?
  4.  संसार के किनारे पर सूर्य की पहली किरण का स्वागत कौन करता है ?
  5.  आकाश के दूसरे सिरे पर जहाँ सूर्य समुद्र में डूबता है वहाँ कैसे मनुष्य हैं ?

इस प्रकार राजकुमार ने दोनों किनारों पर पूर्व में भी और पश्चिम में भी मनुष्यों को देखने की इच्छा प्रकट की। उसने चित्रा से यह बताने की प्रार्थना की कि जादू का घोड़ा कहाँ बँधा हुआ है। वे इस पर सवार होकर पूरे संसार को देखना चाहते थे। इसके अतिरिक्त संसार के विषय में अन्य अनेक विचार उनके मस्तिष्क में आये। उनकी प्रबल इच्छा थी कि वे महल के बाहर की वस्तुओं को देखें। ]

Question 21.
Whatlesson doyou get from the story The LightofAsia’? .
(“The Light of Asia’ की कहानी से आपको क्या शिक्षाएँ प्राप्त होती हैं ?)
Answer:
“The Light of Asia’ describes the story of Buddha’s birth, his early experiences of life, his renunciation and his teachings. From what Lord Buddha observed and taught, we learn the following lessons :

We should accept the realities of life as they are. Life is not what we want it to be. It is full of sufferings, diseases and its end is death.

We should not forget that old age comes to everybody and makes us weak. With no power left to work, one may have even to beg for his bread.

We should also accept that disease takes everybody in its fold. It takes away joy and health from us. People leave the sick to die. We should also accept that the end of life is death.

The man takes birth, enjoys his life and dies. He again takes birth and again dies. This cycle of life goes on.

The gist of life is that the world is caught in the net of woes and death. The pleasures of life are false. They end in sorrow. In our life youth is delightful, old age is painful and the end is death.

[The Light of Asia’ में बुद्ध का जन्म, उनके प्रारम्भिक अनुभव, उनकी विरक्ति और उनकी शिक्षाओं का वर्णन किया गया है।

महात्मा बुद्ध ने जिनका अवलोकन किया तथा शिक्षा प्रदान की, उससे हम निम्न पाठ सीखते हैं-

हमें जीवन की वास्तविकताओं को उनके मूल रूप में स्वीकार कर लेना चाहिए। जीवन वैसा नहीं है जैसा कि हम चाहते हैं। यह तो दु:खों, बीमारियों से भरा हुआ है तथा इसका अन्त मृत्यु, ही है।

हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हम में से प्रत्येक वृद्धावस्था को प्राप्त करता है तथा कमजोर हो जाता है। हममें कार्य करने की शक्ति नहीं रहती तथा अपनी जीविका के लिए हमें भीख भी माँगनी पड़ सकती है।

हमें यह भी स्वीकार करना चाहिए कि बीमारी सबको पकड़ती है। यह हमारे जीवन से प्रसन्नता एवं स्वास्थ्य को दूर ले जाती है।

हमें यह भी स्वीकार करना चाहिए की जीवन का अन्त मृत्यु है। मनुष्य जन्म लेता है, जीवन का आनन्द लेता है तथा मर जाता है। वह जन्म लेता है तथा पुनः मरता है। जीवन को यह चक्र चलता रहता है।

जीवन का सारांश यह है कि सम्पूर्ण संसार दु:ख एवं मृत्यु के जाल में फंसा हुआ है। जीवन के आनन्द झूठे हैं। सबका अन्त दु:ख ही है। हमारे जीवन में युवावस्था प्रसन्नतादायक, बुढ़ापा दुःखदायक और अन्त मृत्यु है।]

Question 22.
Why was king Suddhodana not in favour of permitting the Prince move out in the city without prior preparation ? What preparations did he ensure before permitting the Prince to visit the city ?
(राजा शुद्धोदन बिना पूर्व तैयारी के राजकुमार को नगर में भ्रमण करने के लिए आज्ञा देने के पक्ष में क्यों
नहीं थे ? राजकुमार के नगर भ्रमण की आज्ञा देने से पहले उन्होंने कौन-सी तैयारियाँ करने का आदेश दिया ?)
Answer:
King Suddhodana was the ruler of Kapilvastu. Prince Siddhartha was his only son. He was brought up with all the luxuries which could be bought by money. He wanted to keep Prince away from pains and sufferings of the world. At the time of Prince’s birth great pandits foretold, “The fortune of my Lord, the Prince, is more than Kingdom.”

At the growing up the Prince’s strange behaviour made the king more worried to him. Though the Prince loved his wife Yashodhara, he would startle in sleep and utter strange words. King dreamt seven visions that irritated him badly and then the hermit described the meaning of these seven visions.

Due to all the above incidents King feared very much about the future of the Prince. So he was not in favour of permitting the Prince to move out the city.

Seeing the strong desire of the Prince to visit the city, king ordered to decorate the city. He ordered that weak, old and sick persons should not come before the Prince.

[ राजा शुद्धोदन कपिलवस्तु के शासक थे। राजकुमार सिद्धार्थ उनके इकलौता पुत्र था। उन्हें हर प्रकार की वे सुविधाएँ जिन्हें धन से खरीदा जा सकता था, के बीच पाला गया था। वह राजकुमार को सांसारिक दुःख-दर्दो से दूर रखना चाहते थे। राजकुमार के जन्म के समय पंडितों ने भविष्यवाणी की थी, “राजकुमार का भाग्य राज्य से बढ़कर है।” बड़े होकर राजकुमार के अद्भुत व्यवहार ने राजा को और अधिक चिन्तित कर दिया। हालाँकि राजकुमार अपनी पत्नी यशोधरा को बहुत प्यार करते थे, लेकिन फिर भी वह सोते समय चौंक जाते थे और अजीब शब्दों को बड़बड़ाते थे। राजा ने स्वप्न में सात दृश्यों को देखा, जिनके कारण वह बुरी तरह घबरा गये और फिर साधु ने भी इन सात दृश्यों के अर्थ का वर्णन कर दिया था।

उपर्युक्त सभी घटनाओं ने राजा को राजकुमार के भविष्य के बारे में बहुत अधिक डरा दिया। इसलिए वह राजकुमार को शहर में घूमने की आज्ञा देने के पक्ष में नहीं थे।

राजकुमार की नगर-भ्रमण की तीव्र इच्छा को देखकर राजा ने नगर को सजाने का आदेश दिया। उन्होंने यह भी आदेश दिया कि कमजोर, बूढ़ा और बीमार व्यक्ति राजकुमार के सामने नहीं आना चाहिए।]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *