Chapter 19 इसे जगाओ (मंजरी)

समस्त पद्याशों की व्याख्या

भई, सूरज ………………….. खोया पड़ा है।

संदर्भ – प्रस्तुत पंक्तियाँ हमारी पाठ्यपुस्तक ‘मंजरी’ के ‘इसे जगाओ’ शीर्षक कविता से उद्धत हैं, इसके रचयिता कवि भवानी प्रसाद मिश्र हैं।

प्रसंग – इस कविता में कवि ने मनुष्य को आलस्य छोड़ने और समय पर जागने की प्रेरणा दी है।

व्याख्या – कवि सूरज और पवन से कहता है कि यह मनुष्य जो बहुत समय से सोया हुआ है, इसे । जगाओ। अर्थात् सवेरा हो गया है लेकिन मनुष्य इस सच से अंजान अपने ही सपनों में खोया हुआ सो रहा है।

भई पंछी,………….. भागेगा यह।

संदर्भ और प्रसंग – पूर्ववत् ।

व्याख्या – कवि पक्षियों से कहता है कि सोए पड़े हुए इस मनुष्य के कानों के पास जाकर चिल्लाओ ताकि ये जाग जाए। इसको जागना जरूरी है बल्कि इसका वक्त पर जागना जरूरी है। अन्यथा देर से जागने पर यह घबरा के उनको पाने के लिए भागेगा जो कि इससे आगे निकल गए हैं।

क्षिप्र गति …………….. कानों पर चिल्लाओ।

संदर्भ और प्रसंग – पूर्ववत् ।

व्याख्या – कवि कहता है कि घबरा के भागने और त्वरित गति यानी तुरंत भागने में अंतर है। त्वरित गति में मनुष्य सही समय का ध्यान रखते हुए सजगता के साथ भागता है, जबकि घबराहट में भागने में केवल  घबराहट होती है। इसलिए अरे! सूरज इसे जगा दो, पवन इसे झकझोर दो और पंछियों इसके कानों के पास , चिल्लाओ ताकि यह समय रहते जाग जाए।

प्रश्न-अभ्यास

कुछ करने को

प्रश्न 1.
जीवन में किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने वाले लोगों से मिलिए एवं उनके अनुभवों को लिखिए।
उत्तर :
बच्चे स्वयं करें। उदाहरण के लिए निम्नलिखित उत्तर देखें।

मैं एक बार भारतीय क्रिकेट के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से मिली। मैंने उनके जीवन के अनुभव के बारे में जानना चाहा तो उन्होंने मुझे बताया कि जीवन में उन्होंने जो भी उपलब्धियाँ यो सफलताएँ अर्जित की हैं, उनके पीछे उनकी कड़ी मेहनत है। वे नींद और आलस्य का त्याग कर 18-18 घंटों तक अभ्यास किया करते थे और आज भी करते हैं। एक अच्छे विकेट कीपर बनने, श्रेष्ठ बल्लेबाज बनने और बेहतर कप्तान बनने के लिए उन्होंने अपने जीवन में अनुशासन और परिश्रम को सबसे ज्यादा महत्व दिया है।

प्रश्न 2.
बच्चे स्वयं करें।

विचार और कल्पना

प्रश्न 1.
कविता में सूरज, पंछी और पवन हमें सही समय पर जागने को प्रेरित कर रहे हैं। समय के नियोजन का हमारे जीवन में क्या महत्त्व है ? इस विषय पर अपने विचार लिखिए।
उत्तर :
समय के नियोजन का हमारे जीवन में अत्यधिक महत्व है। समय यदि एक बार चला जाता है तो उसे वापस नहीं लाया जा सकता है। इसलिए हमें जीवन में समय का सदुपयोग करना चाहिए, सारे काम समय पर करने चाहिए। चाहे वह सुबह जागने का समय हो, विद्यालय जाने का समय हो, पढ़ाई करने का समय हो या खाना खाने या खेलने का समय हो। हर कार्य के लिए एक निश्चित समय निर्धारित कर हमें उसी समय के अनुसार चलना चाहिए। हम समय का सदुपयोग करने से ही जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

प्रश्न 2.
संसार में बहुत से भू-भाग ऐसे है जहाँ सूरज कई दिनों तक दिखाई नहीं देता है। चारों ओर फैले अंधकार और बर्फ के बीच लोग कैसे जीवनयापन करते होंगे ? कल्पना करें और वहाँ के जीवन के बारे में कुछ वाक्य लिखिए।
उत्तर :
संसार में बहुत से भू-भाग ऐसे हैं जहाँ सूरज कई दिनों तक दिखाई नहीं देता है। ऐसे में चारों ओर फैले अंधकार और बर्फ के बीच लोगों के लिए जीवन यापन करना बहुत मुश्किल हो जाता होगा। ऐसा ही एक शहर है, मूरमैन्स्क (रूस) जहाँ 40 दिनों तक लोगों को सूर्य के दर्शन नहीं होते। यद्यपि यहाँ 40 दिनों तक लगातार रात रहती है। 40 दिनों तक यहाँ के निवासी कड़ाके की ठंड में जीने को मजबूर होते हैं। जरूरत की हर सामान के लिए उन्हें 40 दिनों तक कठिन संघर्ष करना पड़ता है।

इन दिनों इनकी दिनचर्या बदल जाती है, हर समय रात होने की वजह से यहाँ के रहने वाले लोगों को समय का पता भी नहीं चलता। और कभी घड़ी होने के बाद भी समय का पता लगाना मुश्किल हो जाता है। इन दिनों यहाँ के लोग घर में सुबह जैसा माहौल बनाने के लिए अलग-अलग तरह की लाइट और हल्के रंग के परदे लगाकर रखते हैं। घर में सारी चीजों का रंग ऐसा रखा जाता है कि अँधेरे का एहसास न हो। उन दिनों इस शहर में चारों तरफ रोशनी की पूरी व्यवस्था की जाती है, यहाँ बर्फ काफी होती है, जिससे ठंड काफी बढ़ जाती है।

कविता से

प्रश्न 1.
कवि ने किन-किन माध्यमों से मनुष्यों को जगाने की बात की है ?
उत्तर :
कवि ने सूरज, पवन और पंछी के माध्यम से मनुष्य को जगाने की बात की है।

प्रश्न 2.
मनुष्य को ‘वक्त पर जगाओ’ कहने से कवि का क्या तात्पर्य है ?
उत्तर :
वक्त पर जगाओ से कवि का तात्पर्य है कि मनुष्य यदि वक्त रहते कर्तव्य और अपने लक्ष्य को पहचान ले, उन्हें निश्चित कर ले और उसे पाने के प्रयास आरंभ कर दे तो उसे सफलता अवश्य मिलेगी। वक्त पर जागना अर्थात वक्त रहते सँभलना भी है।

प्रश्न 3.
निम्नलिखित पंक्तियों का आशय लिखिए

(क) जो सच से बेखबर, सपनों में खोया पड़ा है।
(ख) क्षिप्र तो वह जो सही क्षण में सजग है।

उत्तर :
(क) “जो सच से बेखबर सोया पड़ा है’- इस पंक्ति का अर्थ है कि मनुष्य अपनी वास्तविकता, अपने आसपास घट रही घटनाओं से अंजान बना अपने दिवास्वप्नों में खोया हुआ है। उसे अपने कर्तव्य का मान नहीं है, बस वह सपने देख रहा है, वे सपने कैसे सच होंगे इस ओर उसका ध्यान नहीं है।
(ख) क्षिप्र तो वह है जो सही क्षण में सजग है- इस पंक्ति में कवि का आशय यह है कि लोग दूसरों से आगे निकलने की होड़ में भागते हैं। पहले तो समय आँवा देते हैं पर जब उनको पता चलता है कि उनका साथी उनसे आगे आगे निकल गया तो वे आनन-फानन में भागते हैं उनकी बराबरी करने को परंतु कवि कहते हैं। कि आनन-फानन में भागना त्वरित गति नहीं है। यानी इससे कोई फायदा नहीं है। सही समय पर सजगता के साथ आगे बढ़ना ही आपको लक्ष्य तक जल्दी पहुँचा सकता है।

प्रश्न 4.
इस कविता को कोई अन्य मनचाहा शीर्षक दीजिए ?
उत्तर :
‘शीषर्कः समय रहते जागो’

भाषा की बात

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों के पर्यायवाची लिखिए – पवन, पंछी, वक्त, सजग, क्षिप्र
उत्तर :

  • पवन – हवा, वायु
  • पंछी – विहग, खग
  • वक्त – समय, काल
  • सजग – सचेत, सावधान
  • क्षिप्र – त्वरित, तुरंत

प्रश्न 2.
दिए गए शब्दों के तत्सम् रूप लिखिए- सूरज, हवा, सच, कान, सपना
उत्तर :

  • सूरज – सूर्य
  • हवा – वायु
  • सच – सत्य
  • कान – कर्ण
  • सपना – स्वप्न

प्रश्न 3.
निम्नलिखित वाक्यों के रिक्त स्थानों की पूर्ति रेखांकित शब्दों के विलोम शब्द से कीजिए –
उत्तर :

  1. अच्छे स्वास्थ्य के लिए समय से जागना तथा समय से सोना चाहिए।
  2. शिक्षा हमें सही और गलत का निर्णय करने में सहायक होती है।
  3. सच बोलने वाले झूठ से दूर रहते हैं।
  4. वक्त बेवक्त खाने से अनेक बीमारियाँ होती हैं।
  5. दौड़ में आगे देखना चाहिए पीछे मुड़कर नहीं।

प्रश्न 4.
ध्यान से पढ़े और समझें ।

प्रश्न 5.
निम्नलिखित वाक्यों में विभक्तियों को रेखांकित कीजिए एवं कारक का नाम लिखिए –

(क) जरा इस आदमी को जगाओ।
(ख) जो सच से बेखबर सपनों में खोया पड़ा है।
(ग) इसके कानों पर चिल्लाओ।
(घ) सूरज ने पवन को जगाया।
(ड.) महात्मा परोपकार के लिए जीवन बिताते हैं।

उत्तर :

(क) को – कर्म
(ख) से – अधिकरण अपादान
(ग) पर – अपादान
(घ) ने – कर्ता को – कर्म
(ङ) के लिए – संप्रदान

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *