Chapter 26 मौलाना अबुल कलाम आज़ाद

पाठ का सारांश

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद का जन्म 11 नवम्बर, 1888 ई० को मक्का नगर में हुआ। इसके पिता मौलाना खैरुद्दीन अरबी के विद्वान थे। माता मदीना के मुफ्ती की पुत्री थी। सन् 1907 में मौलाना का परिवार कोलकाता आ गया। ये कुशाग्र बुद्धि के थे। इन्होंने साहित्य, गणित और दर्शन का गहन अध्ययन किया। इन्हें शायरी और गद्य लेखन का शौक था। 12 वर्ष की उम्र में इन्होंने ‘नैरंगे आलम’ पहली पत्रिका निकाली। इसके बाद ‘लिसानुल सिदक’ दूसरा पत्र प्रकाशित किया। इस्लाम के लाहौर अधिवेशन में 15-16 वर्ष के मौलाना ने सधी और संयत भाषा में करीब ढाई घण्टे वक भाषण दिया। इसके बाद इन्होंने कई पत्रिकाओं का सम्पादन किया। । सन् 1912 ई० में इन्होंने अपना प्रसिद्ध साप्ताहिक अखबार ‘अलहिलाल’ निकाला, जिसने लोगों में जागृति की लहर पैदा कर दी। सरकार के खिलाफ लिखने के जुर्म में राँची (झारखण्ड) में चार वर्ष तक इन्हें कैद में रहना पड़ा।

सन् 1920 ई० से ये महात्मा गांधी के सम्पर्क में आए। राष्ट्रीय गतिविधियों में सक्रिय होने के कारण इन्हें कई बार जेल जाना पड़ा। इन्होंने गांधी जी के असहयोग को पूरा सहयोग दिया। इन्होंने हिन्दू एकता,  शान्ति, अनुशासन और बलिदान के लिए देशवासियों को आमन्त्रित किया। सन् 1923 ई० में इन्हें कांग्रेस के विशेष अधिवेशन का अध्यक्ष चुना गया। वे फिर 1940 ई० में कांग्रेस के अध्यक्ष बने और स्वतन्त्रता प्राप्ति के दौर में अँग्रेजों से हुई विभिन्न वार्ताओं में शामिल हुए।

अगस्त 1947 को भारत के स्वतन्त्र होने पर इन्हें शिक्षामंत्री बनाया गया। मौलाना ने शिक्षा, कला, संगीत और साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए। उन्होंने प्रौढ़ शिक्षा और महिला शिक्षा पर अत्यधिक बल दिया। राष्ट्रीय एकता, धार्मिक सहिष्णुता और देशप्रेम का आदर्श प्रस्तुत करके यह यशस्वी और साहसी, साहित्यकार, पत्रकार और उच्चकोटि का राजनेता 22 फरवरी, 1958 ई० को स्वर्ग सिधार गया।

अभ्यास-प्रश्न

प्रश्न 1.
अबुल कलाम आजाद के बचपन के खेल किस भावना को प्रदर्शित करते थे?
उत्तर :
अबुल कलाम आजाद के बचपन के खेल उनकी नेतृत्व क्षमता, वाक्पटुता और पत्रकारिता के क्षेत्र में रुचि प्रदर्शित करते थे।

प्रश्न 2.
‘अल हिलाल’ अखबार की जमानत क्यों जब्त कर ली गई?
उत्तर :
सरकार के खिलाफ लिखने के जुर्म में ‘अलहिलाल’ की  जमानत जब्त कर ली गई।

प्रश्न 3.
“वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के महान नेताओं में से एक हैं।” आजाद के बारे में। यह बात किसने और क्यों कही?
उत्तर :
“वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के महान नेताओं में से एक है।” आजाद के बारे में यह बात गांधी जी ने कही। आजाद राष्ट्रीयता की भावना का विस्तार और हिन्दू-मुस्लिम एकता के पक्षधर थे।

प्रश्न 4.
मौलाना अबुल कलाम आजाद द्वारा लिखित पुस्तकों तथा पत्रिकाओं के नाम लिखिए।
उत्तर :
नैरंगे आलम’, ‘लिसानुल-सिदक’, ‘अलहिलाल’, ‘अलनदवा’ और ‘वकील’।

प्रश्न 5.
अबुल कलाम आजाद के व्यक्तित्व के प्रमुख गुण बताइए।
उत्तर :
आजाद के व्यक्तित्व के प्रमुख गुण निम्न हैं

  1. ओजपूर्ण वक्ता,
  2. यशस्वी साहसी साहित्यकार,
  3. पत्रकार, 
  4. उच्चकोटि का राजनेता और
  5. शिक्षाशास्त्री और समाज सुधारक।

प्रश्न 6.
महिलाओं की शिक्षा के विषय में आजाद के क्या विचार थे?
उत्तर :
मौलाना ने महिलाओं की शिक्षा पर विशेष बल दिया क्योंकि वे मानते थे कि शिक्षित महिला पूरे परिवार को शिक्षित बना सकती है।

प्रश्न 7.
निम्नलिखित गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति नीचे दिए गए शब्दों की सहायता से कीजिए ( पूर्ति करके)| सक्रिय, असहयोग, विस्तार, मिशन, विश्वास, असीमित
उत्तर :
आजाद को कई बार जेल जाना पड़ा। महात्मा गांधी के असहयोग  आन्दोलन को उन्होंने अपना पूरा समर्थन दिया। ‘राष्ट्रीयता की भावना का विस्तार’ तथा ‘हिन्दू मुस्लिम एकता’ उनके मिशन के अंग थे। इससे उन्हें राष्ट्रीय नेताओं का भरपूर सक्रिय विश्वास और असीमित प्यार मिला।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *