Chapter 3 प्रायश्चित (भगवतीचरण वर्मा)

UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi कथा भारती Chapter 3 प्रायश्चित img-1
UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi कथा भारती Chapter 3 प्रायश्चित img-2

प्रश्न 2.
UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi कथा भारती Chapter 3 प्रायश्चित img-3

UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi कथा भारती Chapter 3 प्रायश्चित img-4
UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi कथा भारती Chapter 3 प्रायश्चित img-5

(3) उद्देश्य–वेर्मा जी की इस कहानी का उद्देश्य इस सत्य को अभिव्यंजित करना है कि वर्तमान में मनुष्य का लगाव मात्र धेन में केन्द्रित है, शेष सभी रिश्ते-नाते नगण्य होते जा रहे हैं। कहानी में धर्मान्धता पर भी प्रहार किये गये हैं तथा समाज में व्याप्त रिश्वतखोरी, बेईमानी और मतलबपरस्ती पर भी यथार्थवादी व्यंग्यों का प्रहार करते हुए धर्मान्धता के वशीभूत हुए लोगों को इस पाश से निकालने का प्रयास किया गया है। लेखक को कहानी लिखने के उद्देश्य में पूर्ण सफलता मिली है।

इस प्रकार ‘प्रायश्चित कहानी लेखक की सफल यथार्थवादी रचना है। कहानी का आरम्भ, मध्य और समापन रोचक व औचित्यपूर्ण है। कहानी में अन्त तक यह कौतूहल बना रहता है कि प्रायश्चित में पण्डित परमसुख को क्या मिलेगा ? अन्त अप्रत्याशित और कलात्मक है। कहानी-कला की कसौटी पर ‘प्रायश्चित एक सफल, व्यंग्यात्मक तथा यथार्थवादी सामाजिक कहानी के रूप में खरी उतरती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *