The Merchant of Venice Short Summary of the Play in Hindi

(Act and Scene wise)
Act I (अंक प्रथम)

दृश्य 1 : यह दृश्य वेनिस की एक सड़क पर खुलता है। एण्टोनियो, सैलेरिनो तथा सेलानियो प्रवेश करते हैं। एण्टोनियो उदास है किन्तु वह स्वयं इसका कारण नही जानता। वह अपने साथियों को इतना अवश्य बताता है कि उसका दु:ख न तो व्यापार से सम्बन्धित है और न किसी के प्यार से। इतने में उसका मित्र बेसैनियो तथा ग्रेशियानो आते हैं और सभी चले जाते हैं। तब बेसैनियो एण्टोनियो से कुछ धन उधार देने की प्रार्थना करता है। एण्टोनियो कारण जानना चाहता है। तब बेसैनियो उसे बताता है कि वह बेलमॉण्ट की एक धनी और सुन्दर स्त्री पोर्शिया से विवाह करना चाहता है इसलिए उसे धन चाहिए। एण्टोनियो उसे बताता है कि मेरे पास इस समय धन नहीं है। अत: तुम किसी से भी मेरी जमानत परे कितने ही ब्याज पर धन ले लो। यहीं दृश्य बन्द हो जाता है।

दृश्य 2 : बेलमॉण्ट नगर में पोर्शिया के घर के एक कमरे का दृश्य है। इसमें पोर्शिया के विवाह के लिए जो बक्सों की लॉटरी की शर्त है उसके बारे में बात होती है। पोर्शिया और नेरिसा की बातचीत होती है। पोर्शिया लॉटरी में भाग लेने वालों के चरित्र पर टीका-टिप्पणी करती है तथा इस प्रकार अपनी प्रखर बुद्धि का परिचय देती है।

दृश्य 3 : इस दृश्य में हम नाटक के दूसरे मुख्य पात्र शाइलॉक से मिलते हैं जो रुपया उधार देता है। बेसैनियो शाइलॉक से तीन माह के लिए तीन हजार ड्यूकर उधार माँगता है। एण्टोनियो भी आ जाता है। शाइलॉक एण्टोनियो को उसके द्वारा किए गए अपमान की याद दिलाता है। काफी बातचीत होने के बाद शाइलॉक एण्टोनियो का एक पौंड मांस तीन महीने की अवधि बीतने पर लेने की शर्त रखता है। एण्टोनियो मान जाता है। और दस्तावेज यानी बॉण्ड पर हस्ताक्षर कर देता है। इसी को Bond story का नाम दिया गया है।

Act II (अंक द्वितीय)

दृश्य 1 : यह छोटा-सा दृश्य बक्सों की कहानी को आगे बढ़ाता है। पोर्शिया, मोरक्को का राजकुमार तथा नेरिसा नौकर-चाकरों के साथ प्रवेश करते है। राजकुमार पोर्शिया से कहता है कि वह उसे उसके काले रंग के कारण ना पसन्द न करे। पोर्शिया कहती है कि इन बातों से कोई अन्तर नहीं पड़ता क्योंकि उसका विवाह तो बक्सों की लॉटरी की शर्त के अनुसार होगा। वह यह भी बताती है कि बक्सा चुनने से पहले उसे शपथ लेनी होगी कि गलत बक्सा चुनने पर वह तत्काल चुपचाप वहाँ से चला जाएगा तथा सारे जीवन कुँआरा रहेगा। मोरक्को का राजकुमार ये शर्ते मानने तथा चर्च में शपथ लेने के लिए चला जाता है। दृश्य यही समाप्त हो जाता है।

दृश्य 2 : इसमें शाइलॉक के घरेलू जीवन की एक झलक है। शाइलॉक का नौकर लाँसलॉट शाइलॉक के व्यवहार से प्रसन्न नहीं है। वह उसकी नौकरी छोड़ कर कहीं दूर जाना चाहता है। बेसैनियो वहाँ आ जाता है। लाँसलॉट उससे नौकरी माँगता है। बेसैनियो उसे नौकरी दे देता है। तभी ग्रेशियानो आता है। वह बेसैनियो से बेलमॉण्ट जाने का अनुरोध करता है। बेसैनियो उसकी प्रार्थना स्वीकार कर लेता है। दृश्य यहीं समाप्त हो जाता है।

दृश्य 3 : शाइलॉक के घर के एक कमरे का दृश्य है। इसमें शाइलॉक की बेटी जेसिका तथा लाँसलॉट आते। हैं। लाँसलॉट जेसिका से विदा लेता है। जेसिका उसे लारेंजो के लिए एक प्रेम-पत्र देती है। यह छोटा दृश्य यहीं समाप्त हो जाता है।

दृश्य 4 : यह दृश्य भी शाइलॉक के घर के एक कमरे में खुलता है। इस दृश्य में लॉरेंजो के साथ जेसिका के भाग जाने की पृष्ठभूमि तैयार होती है। ग्रेशियानो, लॉरेंजो, सैलेरिनो तथा सेलानियो प्रवेश करते हैं। बेसैनियो के बेलमॉण्ट प्रस्थान के उपलक्ष में दी जाने वाली दावत के अवसर पर एक नाटक रचने के दृश्य पर वाद-विवाद होता है। लाँसलॉट आकर लारेंजो को जेसिका का पत्र देता है जिसमें जेसिका लारेंजो को अपने भागने की योजना बताती है कि वह एक नौकर के वस्त्र पहनकर तथा कुछ गहने आदि लेकर लारेंजो के साथ भागेगी। केवल लारेंजो को उसे लेने जाना होगा। लारेंजो इसे नाटक मण्डली के साथ लेकर भागने की योजना बनाता है। ग्रेशियानो को इस योजना के विषय में बताता है। दृश्य यहीं समाप्त हो जाता है।

दृश्य 5 : दृश्य शाइलॉक के घर के सामने खुलता है। शाइलॉक बेसैनियो के प्रस्थान के समय दी जाने वाली दावत का निमन्त्रण स्वीकार कर लेता है तथा दावत में जाने की तैयारी करता है। अपने घर की चाबियाँ जेसिका को देकर प्रस्थान करता है और जेसिका से अपने पीछे सावधान रहने को कहता है। दृश्य यहीं समाप्त हो जाता है।

दृश्य 6 : लारेंजो के मित्र एक पूर्व निश्चित स्थान पर प्रतीक्षा कर रहे हैं। जेसिका लारेंजो के साथ उसका मशालची बनकर भाग जाती है तथा अपने साथ कुछ धन और आभूषण भी ले जाती है। एण्टोनियो ग्रेशियानो को सूचित करता है कि उन्हें मशाल जुलूस को स्थगित करना है क्योंकि उसे तथा बेसैनियो को तत्काल बेलमॉण्ट जाना है क्योंकि हवा यात्रा के पक्ष में चल पड़ी है।

दृश्य 7 : यहाँ लॉटरी के बक्सों की कहानी आगे बढ़ती है। सर्वप्रथम मोरक्को का राजकुमार सोने का बक्सा चुनता है जिसमें उसे एक मुर्दे की खोपड़ी मिलती है, वह दुःख प्रकट करता हुआ वहाँ से चला जाता है।

दृश्य 8 : यह दृश्य हमें पुन; शाइलॉक के पास ले जाता है। शाइलॉक को अपनी बेटी जेसिका के एक ईसाई के साथ भाग जाने और उसका धन तथा गहने ले जाने का पता लगता है। इस दु:ख के कारण वह पागलों के समान सड़कों पर घूमता-फिरता है और चिल्लाता है मेरी बेटी, मेरे गहने, जेसिका को बेसैनियो के जहाज पर भी ढूंढा जाता है किन्तु उसका कोई पता नहीं लगता। ईसाइयों के प्रति शाइलॉक की घृणा बढ़ जाती है। सेलेरिनो तथा सोलेनियो एण्टोनियो के एक जहाज के डूब जाने की अफवाह का भी जिक्र करते हैं।

दृश्य 9 : इस दृश्य में पुनः पोर्शिया के घर में पहुँचते हैं। अरागॉन का राजकुमार लॉटरी में शामिल होता है। और सोच- विचार कर चाँदी का बक्सा चुनता है। इसमें उसे एक हँसते हुए मूर्ख का चित्र प्राप्त होता है और साथ में एक पत्र जिसमें उसे बिल्कुल मूर्ख बताया गया है। दुःखी मन से वह भी वहाँ से चला जाता है। दृश्य के अन्त में बेलमॉण्ट में बेसैनियो के आगमन की सूचना मिलती है।

Act III (अंक तृतीय)

दृश्य 1 : जेसिका के एक ईसाई के साथ भाग जाने से शाइलॉक बहुत दु:खी है। विशेषकर एण्टोनियो से घृणा स्वरूप रुक्के की अवधि की समाप्ति पर उसके शरीर से एक पौंड मांस अवश्य लेने का निश्चय कर रहा है। एण्टोनियो के कई जहाजों के डूबने की अफवाह से वह बहुत प्रसन्न है। जेसिका का अभी तक कोई पता नहीं लगा है। अब वह रुक्के पर कार्यवाही के लिए एक अच्छे वकील की तलाश में है।

दृश्य 2 : यह दृश्य पुनः हमें पोर्शिया के घर ले जाता है जहाँ लॉटरी के बक्सों की कहानी पूरी होने जा रही है। यहाँ बेसैनियो काफी सोच-समझकर सीसे का बक्सा चुनता है जिसके अन्दर उसे पोर्शिया का चित्र प्राप्त होता है। अत: पोर्शिया और बेसैनियो का विवाह निश्चित है। इसी प्रकार ग्रेशियानो तथा नेरिसा का विवाह भी निश्चित हो जाता है तथा दोनों स्त्रियाँ अपने पतियों को एक-एक अँगूठी देती है। इसी बीच लारेंजो तथा जेसिका के साथ एक दूत सूचना देता है कि एण्टोनियो के सभी जहाज डूब जाने के कारण शाइलॉक अदालत में एण्टोनियो के शरीर से एक पौंड मांस लेने की जिद पर अड़ा हुआ है। यह सुनकर पोर्शिया से नहीं रहो गया, वे तुरन्त चर्च में जाकर विवाह करते हैं और फिर पोर्शिया काफी धन देकर बेसैनियो को ग्रेशियानो के साथ एण्टोनियो की सहायता के लिए भेजती है और उसे कहती है कि उसका मित्र किसी भी कीमत पर बचना चाहिए।

दृश्य 3 : यह दृश्य रुक्के की कहानी को आगे बढ़ाता है। एण्टोनियो जेल में है। वह जेलर के साथ शाइलॉक के पास दया की भीख माँगने जाता है। शाइलॉक उसे दुत्कार देता है।

दृश्य 4 : यह दृश्य अदालत के दृश्य की पृष्ठभूमि तैयार करता है। पोर्शिया अपने एक नौकर को प्रसिद्ध वकील डा० बेलारियो के पास भेजती है ताकि वह उनसे एण्टोनियो के पक्ष में कुछ दलीलें, ड्यूक के नाम पत्र और वकील की ड्रेस ले आए। फिर वह घर की जिम्मेदारी लॉरेंजो और जेसिका को सौपती है जब तक उनके पति लौट कर आएँ। फिर वह नेरिसा के साथ चल पड़ती है।

दृश्य 5 : इस दृश्य में लाँसलॉट के हास्य की झलक के अतिरिक्त और कुछ नहीं है।

Act IV (अंक चतुर्थ)

दृश्य 1 : यह कोर्ट का दृश्य है, जिसमें एण्टोनियो और शाइलॉक दोनों पक्षों के व्यक्ति उपस्थित हैं। इसमें ड्यूक शाइलॉक से दया की अपील करता है किन्तु शाइलॉक नहीं मानता, बेसैनियो उसे 6000 ड्यूकर पेश करता है किन्तु शाइलॉक कहता है कि मैं छत्तीस हजार ड्यूकर भी नहीं लूंगा। मुझे केवल एक पौंड मांस चाहिए। भेष बदलकर पोर्शिया और नेरिसा आती हैं। वे ड्यूक को डा० बेलारियो का पत्र देती हैं। ड्यूक पोर्शिया को मुकदमे की पैरवी करने की स्वीकृति दे देता है।

पोर्शिया एण्टोनियो से पूछती है क्या वह रुक्के को स्वीकार करता है। एण्टोनियो कहता है हाँ, फिर पोर्शिया शाइलॉक से दया की प्रार्थना करती है किन्तु शाइलॉक केवल एक पौंड मांस का दावा करता है। पोर्शिया उसके दावे को स्वीकार करती है। फिर वह एण्टोनियो से अपनी छाती खोलकर मांस देने के लिए और शाइलॉक से मांस लेने के लिए तैयार होने को कहती है। जब शाइलॉक चाकू लेकर आगे बढ़ता है तभी पार्शिया उसे सचेत करती है कि रुक्के के अनुसार उसे केवल एक पौंड मांस लेने का अधिकार है किन्तु ऐसा करने में न तो एक बूंद रक्त बहे और न मांस एक पौंड से कम या ज्यादा कटे। वरना उसकी सारी सम्पत्ति राज्य जब्त कर लेगा।

फिर तो शाइलॉक घबरा कर पीछे हट जाता है और अपना मूल धन ही लेना चाहता है। किन्तु अदालत सभी बातों को अस्वीकार कर देती हैं। फिर वह अदालत छोड़कर जाने लगता है किन्तु पोर्शिया उसे रोककर कहती है कि अदालत की दृष्टि में वह अपराधी है। उसने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से एक नागरिक की जान लेने की कोशिश की है। इसकी सजा है कि अपराधी की आधी सम्पत्ति उस व्यक्ति की है जिसकी उसने जान लेने की कोशिश की है और आधी सम्पत्ति राज्य की है तथा उसका जीवन ड्यूक की दया पर निर्भर है। ड्यूक उस पर दया करने को राजी है। तब पोर्शिया एण्टोनियो से पूछती है कि वह शाइलॉक पर क्या दया कर सकता है। अतः एण्टोनियो तीन शर्ते रखता है

  • एण्टोनियो को मिलने वाली आधी सम्पत्ति फिलहाल ट्रस्ट की हो और शाइलॉक की मृत्यु के बाद यह सम्पत्ति शाइलाक के दामाद को दे दी जाएगी।
  • वह तुरन्त ईसाई धर्म को स्वीकार कर ले।
  • बाकी आधी सम्पत्ति को लारेंजो तथा जेसिका के नाम कर दे।

शाइलॉक तीनों शर्ते मानने को राजी हो गया और अपने घर चला गया। बाद में बेसैनियो पोर्शिया को कुछ धन देने का प्रस्ताव करता है। पोर्शिया धन लेने को मना कर देती है। जब उससे पुन: कुछ लेने का आग्रह किया जाता है तब पोर्शिया एण्टोनियो के दस्ताने ले लेती है और बेसैनियो से वह अँगूठी माँगती है जो वह पहने हुए है। किन्तु बेसैनियो शादी की अँगूठी देने को तैयार नहीं है। तब पोर्शिया नेरिसा के साथ उनसे विदा लेकर । चली जाती है। बाद में एण्टोनियो के कहने पर बेसैनियो अपनी अँगूठी देकर ग्रेशियानो को पोर्शिया के पीछे भेजता है। दृश्य यहीं समाप्त हो जाता है।

दृश्य 2 : पोर्शिया तथा नेरिसा आती हैं। ग्रेशियानो पोर्शिया को बेसैनियो की अँगूठी देता है। पोर्शिया उससे नेरिसा को शाइलॉक के घर तक पहुँचाने का अनुरोध करती है ताकि दस्तावेज पर शाइलॉक के हस्ताक्षर हो जाएँ, नेरिसा भी किसी प्रकार अपने पति की अँगूठी प्राप्त कर लेती हैं। दोनों का उद्देश्य है बाद में अपने पतियों से अँगूठी माँगकर उन्हें परेशान करना। दृश्य यहीं समाप्त हो जाता है।

Act V(अंक पंचम)

दृश्य 1 : यह दृश्य बेलमॉण्ट में पोर्शिया के घर का है। घर के लॉन में संगीतकार संगीत बजा रहे हैं। एक-एक करके सभी पात्र इकड़े हो जाते हैं। पोर्शिया तथा नेरिसा प्रवेश करती हैं। पोर्शिया संगीत बन्द करने का आदेश देती है। लारेंजो पोर्शिया को आवाज से पहचानकर उसका स्वागत करता है। तनिक देर बाद बेसैनियो, ग्रेशियानो तथा एण्टोनियो आते हैं। पोर्शिया उनका स्वागत करती है। थोड़ी देर में नेरिसा और ग्रेशियानो अँगूठी के ऊपर झगड़ा शुरु कर देते हैं। फिर पोर्शिया तथा बेसैनियो में भी अँगूठी पर झगड़ा शुरू हो जाता है। अविश्वास का नाटक होता है। एण्टोनियो हस्तक्षेप करके मामले को शान्त करना चाहता है। फिर पोर्शिया भेद खोलती है कि वह स्वयं ही जज थी और नेरिसा उसकी क्लर्क। इस पर सभी आश्चर्य करते हैं। फिर पोर्शिया एक पत्र दिखाती है जो उसे रास्ते में मिला था। इसमें लिखा है कि एण्टोनियो के माल से लदे तीन जहाज सुरक्षित वापस आ गए हैं। फिर उदास खड़े लारेंजो को शाइलॉक को वह दान-पत्र दिया जाता है। जिसके अनुसार शाइलॉक के मरने के बाद उसकी सारी सम्पत्ति लारेंज़ो वे जेसिका को मिलेगी। चारों ओर खुशियाँ मनाई जाती हैं। नाटक का यहीं अन्त हो जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *